रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी में लिप्त 3 समाज के वायरस गिरफ्तार 

 

जबलपुर :अब इन्हें समाज के वायरस न कहें तो क्या कहें ,रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी में लिप्त 3 आरोपियों को क्राईम ब्रांच एवं ओमती पुलिस ने संयुक्त कार्यवाही करते हुए गिरफ्तार कर लिया है,साथ ही  पुलिस अधीक्षक जबलपुर के निर्देश पर पुलिस रिमाण्ड पर लेकर की आरोपियों से पूछताछ की जा रही है ,साथ ही पूछताछ पर रैमडेसिविर इंजैक्शन की कालाबाजरी मे लिप्त रैकिट का खुलासाका भी दावा किया जा रहा है,

 

हाॅस्पिटल में कार्यरत नर्स, तथा लैब टैक्निशियन गिरफ्तार, फरार मेल नर्स एवं एक अन्य की तलाश

वहीँ गौरतलब है की पुलिस अधीक्षक  सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.)* द्वारा देश में रेमडिसिवर इंजैंक्शन एवं आॅक्सीजन गैस सिलेण्डर की हो रही कालाबाजारी को ध्यान मे रखते हुये जिले में पदस्थ समस्त राजपत्रित अधिकारियेां एवं थाना प्रभारियों तथा क्राईम ब्रांच को कालाबाजारी मे लिप्त आरोपियेां को चिन्हित करते हुये उनके विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही हेतु आदेशित किया गया है।आदेश के परिपालन मे अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर श्री रोहित काशवानी, एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर दक्षिण/अपराध  गोपाल खाण्डेल तथा नगर पुलिस अधीक्षक ओमती  आर.डी. भारद्वाज के मार्ग निर्देशन में थाना ओमती एवं क्राईम ब्रांच की संयुक्त टीम के द्वारा इनफिनिटी हार्ट इंस्टीटयूट के एचआर प्रमोद सिंह ठाकुर की शिकायत पर 12-12 हजार रूपये में रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने की बात कर रहे नरेन्द्र ठाकुर पिता रामसिंह ठाकुर उम्र 27 वर्ष निवासी ग्राम किन्दराहो पथरिया जिला दमोह हाल निवासी आमनपुर मदनमहल, एवं राम अवतार पटेल पिता रामनरेश पटेल उम्र 23 वर्ष निवासी ग्राम खिरवा खुर्द विजय राघवगढ, थाना कैमोर जिला कटनी हाल निवासी आगा चैक साई होटल के बाजू वाली गली लार्डगंज, तथा संदीप कुमार प्रजापति पिता कोमल प्रजापति उम्र 22 वर्ष निवासी बघराजी कुण्डम हाथ निवासी कोठारी मेडिकल के पास कोतवाली को पकड़ा जाकर तलाशी लेते हुये नरेन्द्र सिंह ठाकुर की जेब में रखे हेटेरो कम्पनी के 2 रेमडेसिविर इंजैक्शन कीमती 6980 रूपये के तथा दूसरी जेब मे रख्ेा वन प्लस, जीओनी तथा जियो कम्पनी के 3 मोबाईल, एक काले रंग के बैग में रखा स्टेथेस्कोप, 1 ऑक्सीमीटर , 2 फाईलें एवं रामअवतार पटेल से रियलमी कम्पनी का मोबाईल एवं संदीप कुमार से नोकिया कम्पनी का मोबाईल जप्त करते हुये नरेन्द्र सिंह ठाकुर, रामअवतार पटेल एवं संदीप पटेल द्वारा बिना वैद्य लायसेंस एवं दस्तावेज के रेमडेसिविर इंजैक्शन को मरोजों को विक्रय करते हुये जिला दण्डाधिकारी के आदेश का उल्लंघन करते हुये लोगों के साथ धोखाधडी करते हुये जीवन रक्षक दवा रेमडेसिविर इंजैक्शन को उच्च दाम पर जरूरतमंद व्यक्तियों को बेचकर अवैध लाभ अर्जित करना पाया जाने पर तीनों के विरूद्ध धारा 188, 420, भादवि एवं 3 महामारी अधिनियम तथा 3, 7 आवश्यक वस्तु अधिनियम का अपराध पंजीबद्ध कर प्रकरण विवेचना में लिया गया था।
पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) को विश्वनीय मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई कि पकडे गये आरोपियेां में नरेन्द्र सिंह ठाकुर फर्जी डाक्टर है उसके पास जो डिग्री है फर्जी है नरेन्द्र सिंह ठाकुर के साथ हाॅस्पिटल मे काम करने वाले नर्स एवं मेल नर्स का एक रैकिट जुडा हुआ है जो हाॅस्पिटल मे मरीजों को लगने वाला रैमडेसिविर इंजैक्शन चोरी कर नरेन्द्र सिंह ठाकुर को बेचता है ।

कुछ इस तरह खुला राज ,

पुलिस अधीक्षक जबलपुर ने सूचना को गम्भीरता से लेते हुये न्यायिक अभिरक्षा मे केंन्द्रीय जेल जबलपुर मे निरूद्ध तीनों आरोपियेां को पुलिस रिमाण्ड पर लिया जाकर कड़ाई से पूछताछ करने हेतु आदेशित किया गया। आदेश के परिपालन में दिनाॅक 15-5-21 को पकडे गये उपरोक्त तीनों आरोपियों को मान्नीय न्यायालय से निवेदन कर रिमाण्ड पर लिया गया एवं कड़ाई से पूछताछ की तो नरेन्द्र सिंह ठाकुर ने बाम्बे हाॅस्पिटल मे काम करने वाली नर्स कु. शाहजहाॅ बेगम उम्र 22 वर्ष निवासी घुलघुली जिला उमरिया से अलग अलग दिनाॅंको में 12 इंजैक्शन 10 हजार रूपये से 17 हजार रूपये तक में खरीदना बताया, इसके साथ ही दीपक बिसेन निवासी बालाघाट जो अनंत अस्पताल में मेल नर्स का काम करता है, से 10 रेमडेसिविर इंजैक्शन 12 हजार से 15 हजार रूपये में खरीदना बताते हुये रेमडेसिविर इंजैक्शन को श्याम सिंह लोधी निवासी कालीमठ आमनपुर मदनमहल को क्रय किये दामों से अधिक रेट पर विक्रय करना बताया, साथ ही बताया इनफिनिटी अस्पताल के कैथलैब टैक्निशियन कृष्णपाल सिंह भदौरिया से भी 5 रेमडेसिविर इंजैक्शन खरीदे है। नरेंद्र सिंह ठाकुर के बतायेनुसार बाम्बे हाॅस्पिटल की नर्स कु. शाहजहाॅ बेगम एवं कृष्णपाल ंिसह भदौरिया को अभिरक्षा मे लेकर पूछताछ की गयी, तो कु. शाहजहाॅ बेगम ने बताया कि वह मरीजों को लगने वाले 2 इंजैक्शन के पहले डोज में से 1 इंजैक्शन लगाकर एक इंजैक्शन बचा लेती थी जिसे वह नरेन्द्र सिंह ठाकुर को बेच देती थी, दिनाॅक 15-4-21 से 12-5-21 के बीच मे कुल 12 इंजैक्शन 1 लाख 69 हजार रूपये में नरेन्द्र ंिसह ठाकुर को बेची है, जिसका पेमेंट फोन पे के माध्यम से प्राप्त किया है। शाहजहाॅ के मोबाईल से फोन पे हिस्ट्री चैक की गयी जिसमे नरेन्द्र ठाकुर के द्वारा भुगतान करना पाया गया है।साथ ही कृष्ण पाल सिंह भदौरिया ने बताया कि संदीप प्रजापति से रेमडेसिविर इंजैक्शन लेकर नरेन्द्र सिंह ठाकुर को बेचा है, जिसका भुगतान फोन पे के माध्यम से प्राप्त किया है।प्रकरण में कु. शाहजहाॅ एवं कृष्णपाल सिंह भदैारिया को विधिवत गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा मे जेल भेज दिया गया है, फरार आरोपी दीपक बिसेन निवासी बालाघाट एवं श्याम सिंह लोधी निवासी कालीमठ आमनपुर मदनमहल की सरगर्मी से तलाश जारी है साथ ही नरेन्द्र सिंह ठाकुर की फर्जी डिग्री की भी जांच की जा रही है।
*उल्लेखनीय भूमिका* -जीवन रक्षक दवा रेमडेसिविर इंजैक्शन की कालाबाजारी में लिप्त आरेापियों से सघन पूछताछ कर रैकिट का खुलासा करने मे थाना प्रभारी ओमती  एस.पी.एस. बघेल,ं थाना ओमती के उप निरीक्षक सतीष झारिया, सहायक उप निरीक्षक नरेश जाटव एवं क्राईम ब्रांच के सहायक उप निरीक्षक धनजंय सिंह, विजय शुक्ला, प्रमोद पाण्डेय , प्रधान आरक्षक बृजेन्द्र कंसाना, प्रआर. राममिलन चक्रवर्ती, दीपक तिवारी, आरक्षक नितिन मिश्रा, मोहित उपाध्याय, अजय सोनकर की सराहनीय भूमिका रही।

शेयर करें: