12वीं में कम मार्कस पाने वाले विद्यार्थियों के लिये कैरियर काउंसिलिंग 6 को

जबलपुर: मध्यप्रदेश दूरिज्म बोर्ड द्वारा जबलपुर टूरिज्म प्रमोशन काउंसिल के तत्वावधान में 6 जून को कैरियर काउंसिलिंग के तहत एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन पं. लज्जाशंकर झा शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय (मॉडल स्कूल) में प्रात: 10 बजे से किया गया है । सीईओ जेटीपीसी हेमंत सिंह ने बताया कि कैरियर काउंसिलिंग के माध्यम से विद्यार्थियों को पर्यटन विभाग द्वारा स्थापित एमपीआईएचटीटीएस भोपाल द्वारा ऐसे प्रशिक्षणार्थियों को कैरियर के संबंध में उचित मार्गदर्शन प्रदान किया जाएगा तथा मध्यप्रदेश के विभिन्न संस्थानों से डिप्लोमा व डिग्री कोर्सेज एवं सर्टिफिकेट कोर्सेज में प्रवेश दिलाकर पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार मुहैया कराने में सहयोग प्रदान किया जाएगा । बारहवीं कक्षा के परीक्षा परिणाम घोषित होने के उपरांत कम अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को अपने कैरियर के चुनाव में कठिनाई उत्पन्न होती है तथा विद्यार्थी अपने कैरियर से भटक कर दिशाहीन कोर्सेज में दाखिला लेकर पछतावा का अनुभव करते हैं । कैरियर काउंसिलिंग रोजगारोन्मुखी पाठ्यक्रमों में सीधे प्रवेश का माध्यम है, परन्तु औसत अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को इसकी जानकारी न होने के कारण वे इसके व्यापक लाभ से वंचित रह जाते हैं एवं अनावश्यक कॉलेज व संस्थानों में दिशाहीन कोर्सेज में दाखिला लेकर अपना भविष्य अंधकार मय बना लेते हैं । राज्य सरकार द्वारा इस कार्यशाला के आयोजन का मुख्य उद्देश्य यह है कि इस कार्यशाला में आने वाले विद्यार्थियों का काउंसिलिंग कर रूचि एवं योग्यतानुसार विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिये प्रेरित किया जाएगा । साथ ही पर्यटन विभाग द्वारा संचालित संस्थाओं जैसे—एफसीआई, एसआईएचएम, आईएचएम, एमपीआईएचटीटीएस आदि में उपलब्ध कोर्सेज एवं पर्यटन के क्षेत्र में उपलब्ध कैरियर की संभावनाओं के अवसर की जानकारी विद्यार्थियों तक पहुंचाकर उन्हें लाभांवित किया जायेगा । इस कार्यशाला में जिला प्रशासन के सहयोग से विद्यार्थियों के लिये इवेंट ले-आउट काउंसिलिंग प्रपत्र, काउंसिलिंग स्टॉल एवं अन्य व्यवस्थाएं की गई हैं । इस कार्यशाला के दौरान छात्रों को रजिस्ट्रेशन फार्म प्रदाय किया जाएगा तथा उनका पंजीयन कराया जाएगा । इसके उपरांत उनका काउंसिलिंग किया जाकर उन्हें उचित मार्गदर्शन प्रदान किया जाएगा । जिले के 12वीं उत्तीर्ण शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थी, जिनको 12वीं में औसतन कम मार्कस मिले है, उन्हें गुमराह या अवसाद होने की आवश्यकता नहीं है । जिले के ऐसे सभी विद्यार्थियों के अभिभावकों से आग्रह किया गया है कि अपने बच्चों को उचित कैरियर मार्गदर्शन प्राप्त करने हेतु भिजवाने का कष्ट करें, जिससे विद्यार्थी अपने भविष्य की नई राह का चयन कर सकें ।
शेयर करें: