हर जरूरतमंद मरीज को स्वास्थ्य सेवा तत्परता से मिले – कमिश्नर श्री मिश्रा

0


जबलपुर :कमिश्नर रवीन्द्र कुमार मिश्रा ने कहा कि हर जरूरतमंद मरीज को बेहतर स्वास्थ्य सेवा तत्परता से मिले। स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर से बेहतर हों। स्वास्थ्य कार्यक्रमों का कुशल प्रबंधन व गुणवत्ता के साथ सही क्रियान्वयन हो। आयुष की सभी चिकित्सा पद्धतियों का लाभ आमजनता को प्रभावी तरीके से मिले, इसके लिए अधिकारी समन्वय से कार्य करें। श्री मिश्रा सोमवार को कमिश्नर कार्यालय सभाकक्ष में विभिन्न विभागों की संभाग स्तरीय समीक्षा बैठक ले रहे थे। बैठक में स्वास्थ्य, खाद्य एवं औषधि प्रशासन, आयुष और महिला एवं बाल विकास विभाग के कार्यों की समीक्षा की गई। कमिश्नर ने निर्धारित लक्ष्य तय समयसीमा में पूर्ण करने पर जोर दिया।


कमिश्नर ने कहा कि लोगों को बीमारी कम से कम हों इसके लिए सभी सुरक्षात्मक कदम पहले से ही उठाए जाएं। मौसमी और संक्रामक बीमारियों की रोकथाम पर विशेष ध्यान दें। विशेष क्षेत्र या किसी जिले में बीमारी फैलाव के ट्रेंड पर ध्यान दें, उस जिले की कार्ययोजना तैयार कर रोकथाम के लिए विशेष अभियान चलाया जाए। मलेरिया नियंत्रण एवं परिवार कल्याण कार्यक्रम के क्रियान्वयन पर विशेष ध्यान दें। कोरोना वायरस के बारे में जागरूकता बढ़ाएं, लोगों की शंकाओं का समाधान करें। ऐसे उपाय करें कि अफवाहें नहीं फैलें। इस बारे में मिलने वाली सूचना पर तुरंत संज्ञान लें। स्वास्थ्य केन्द्रों, आंगनबाड़ियों में दवाईयों, वैक्सीन आदि की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित हो। उपलब्ध दवाईयों, क्लोरीन आदि का उपयोग सुनिश्चित किया जाए।
संस्थागत प्रसव की समीक्षा के दौरान श्री मिश्रा ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी स्थिति में घर पर प्रसव नहीं हो। जननी एक्सप्रेस की सेवाएं लोगों को अविलम्ब मिलें। कुछ सुदूर स्थानों पर कनेक्टिविटी नहीं होने की स्थिति में वायरलैस से जननी एक्सप्रेस बुलवाएं। घर पर होने वाले प्रसव की अधिक संख्या वाले जिलों की कार्यप्रणाली पर कमिश्नर ने अप्रसन्नता व्यक्त की। इस बारे में उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी और महिला एवं बाल विकास अधिकारी को प्रत्येक केस की समीक्षा कर 15 दिन में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए ताकि संबंधित के विरूद्ध कार्रवाई की जा सके।
कमिश्नर ने शिशु एवं मातृ मृत्युदर में कमी लाने और उसकी सतत् मानीटरिंग पर विशेष जोर दिया। उन्होंने निर्देश दिए कि आयुष विभाग की संस्थाओं का अधिकाधिक लाभ आमजनता को मिलना चाहिए। इनमें दवाईयों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित हो। आयुष डॉक्टर्स एवं स्टाफ संवेदनशीलता एवं सक्रियता से कार्य करें। आयुष विभाग का अमला डायबिटीज एवं बीपी के मरीजों की लगातार मानीटरिंग करें।
श्री मिश्रा ने कहा कि आदर्श आंगनबाड़ी केन्द्रों के संचालन में जन सहयोग लें। कमिश्नर ने महिला एवं बाल विकास विभाग और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के कार्यों में कसावट लाने पर जोर दिया। उन्होंने निर्देश दिए कि अधिकारी निरंतर भ्रमण कर कसावट लाएं। आंगनबाड़ी केन्द्रों में पर्याप्त पोषण आहार, दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित हो। जिला अधिकारी लगातार मानीटरिंग करें। मार्च माह के प्रथम सप्ताह तक निर्धारित लक्ष्य पूर्ण करें। लक्ष्य के अनुरूप कार्य नहीं पाए जाने पर संबंधित को दण्डित किया जाए।
खाद्य एवं औषधि प्रशासन की समीक्षा के दौरान कमिश्नर ने खाद्य पदार्थों के अमानक पाए गए नमूनों में दर्ज प्रकरणों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि शुद्ध के लिए युद्ध अभियान पर विशेष ध्यान दिया जाए।
बैठक में संयुक्त आयुक्त विकास अरविंद यादव, संयुक्त संचालक स्वास्थ्य, संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास, संभागीय आयुष अधिकारी, संभाग के सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग, जिला आयुष अधिकारी और अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x