सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में ओपन हार्ट सर्जरी शुरू
संभागायुक्त ने की समीक्षा,दूर गाँव तक पहुँचे चिकित्सक

0
जबलपुर :संभागायुक्त रवीन्द्र कुमार मिश्रा ने निर्देश दिए हैं कि ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकतर ग्रामों तक और शहरी क्षेत्रों में वार्ड कार्यालय में चिकित्सक पहुंचें और मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण कर चिकित्सकीय सलाह देवें।संभागायुक्त मिश्रा ने निर्देश दिए कि मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी ऐलोपैथी, आयुष और होम्योपैथी चिकित्सकों के सहयोग से कार्ययोजना बनाएं और अमल में लाएं। चिकित्सक के क्षेत्र में पहुंचने का दिन व समय संबंधित क्षेत्र में प्रचारित किया जाए ताकि ऐसे मरीज जो अस्पतालों तक आकर उपचार नहीं करा पाते हैं। वे चिकित्सक से अपना स्वास्थ्य परीक्षण करा सकें।
संभागायुक्त श्री मिश्रा कमिश्नर कार्यालय के सभाकक्ष में स्वास्थ्य, चिकित्सा महाविद्यालय चिकित्सालय, महिला एवं बाल विकास, आयुष और खाद्य एवं औषधि गुण नियंत्रण विभाग के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे।संभागायुक्त ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत मिशन और अभियानों का उचित क्रियान्वयन हो। कैंसर, ब्लडप्रेशर और मधुमेह जैसी बीमारियों की व्यापक जांच कर उनका शुरूआत से ही इलाज सुनिश्चित किया जाए। इन रोगों के इलाज के लिए आयुष और होम्योपैथी चिकित्सक भी कार्ययोजना बनाकर कार्य करें और मरीज के स्वास्थ्य की नियमित मानीटरिंग करें।
संभागायुक्त ने शत-प्रतिशत संपूर्ण टीकाकरण सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए। मैदानी अमले और महिला एवं बाल विकास विभाग के सुपरवाइजर्स को इसके लिए विशेष ध्यान देना होगा। इसी तरह मोतियाबिंद आपरेशन की समीक्षा हुई। संभागायुक्त ने कहा कि टीकाकरण एवं मोतियाबिंद आपरेशन, प्रसव आदि की संपूर्ण जानकारी निजी अस्पतालों, चिकित्सकों से ली जाए। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी निजी अस्पताल संचालकों की बैठक लेकर उन्हें पूरी जानकारी देने के प्रति सचेत कर दें।मलेरिया नियंत्रण के संबंध में बताया गया कि मेडीकेटेड मच्छरदानी के उपयोग से मलेरिया के फैलाव को रोकने में काफी मदद मिली है। आदिवासी बहुल क्षेत्रों में फैल्सीफेरम मलेरिया का फैलाव काफी नियंत्रित हो गया है। संभागायुक्त ने कहा कि मलेरिया के प्रति जागरूकता के लिए निरंतर कार्य करना होगा। मलेरिया की रोकथाम के लिए ऐलोपैथी, आयुष तथा होम्योपैथी डॉक्टर मिलकर कार्य करें।बैठक में संस्थागत प्रसव, परिवार कल्याण कार्यक्रम के प्रति जागरूकता बढ़ाने पर जोर दिया गया। संभागायुक्त ने निर्देश दिए कि चिकित्सक देखें कि डायलिसिस मशीनें सही तरीके से कार्य कर रही हैं या नहीं। किडनी की क्षमता बढ़ाने तथा रोग से बचाव के लिए आयुष एवं होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति का उपयोग करने पर भी विचार किया जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में प्रसव केंद्रों में स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने कहा गया। पोषण पुनर्वास केन्द्र में उपचार के बाद बच्चों के स्वास्थ्य का फालोअप किया जाए।संभागायुक्त श्री मिश्रा ने कहा कि खाद्य और औषधि प्रशासन विभाग के अधिकारी दवाओं की गुणवत्ता के लिए विशेष कार्य करें। खाद्य सामग्रियों में मिलावट की रोकथाम का अभियान निरंतर जारी रखें। मेले, विशेष आयोजनों पर बिकने वाली स्वादिष्ट खाद्य सामग्रियों के नमूने लेकर जांच की जाए। जांच परिणाममूलक हों।मेडिकल कालेज चिकित्सालयसंभागायुक्त श्री मिश्रा ने कहा कि मेडिकल कालेज चिकित्सालय की ओपीडी में मरीजों का पूरा ध्यान रखा जाए। उसे बिना किसी परेशानी चिकित्सकीय सलाह मिले तथा उसकी समस्या का समाधान प्राप्त हो। इसके लिए इंचार्ज आफीसरों की नियुक्ति की जाए। प्रतिदिन दो-तीन अधिकारी भ्रमण कर मरीजों की समस्या के निराकरण की मानीटरिंग करें। संभागायुक्त ने मेडिकल कालेज चिकित्सालय के उन्नयन के लिए चल रहे निर्माण कार्यों को समय-सीमा में पूर्ण कराने की हिदायत दी। रिक्त पदों की पूर्ति करने के लिए कहा।मेडिकल कालेज के डीन ने बताया कि सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में ओपन हार्ट सर्जरी शुरू हो गई है। बायपास हार्ट सर्जरी शुरू हो गई है। अब तक 10 हृदय आपरेशन हो चुके हैं। बाल हृदय उपचार योजना तहत इलाज हो रहा है। कांक्लीयर इम्प्लांट के 22 आपरेशन हो चुके हैं।महिला एवं बाल विकास विभाग अंतर्गत आंगनबाड़ी भवनों का निर्माण, जन सहयोग से बाल शिक्षा केन्द्र, आदर्श आंगनबाड़ी केन्द्रों की स्थापना की समीक्षा हुई। लाड़ली लक्ष्मी योजना की राशि का पोस्ट आफिस से भुगतान में दिक्कत पर पोस्ट आफिस के वरिष्ठ अधिकारियों से संपर्क करने के निर्देश दिए गए।बाल-मातृ मृत्यु दर कम करने के लिए संभागायुक्त ने निर्देश दिए कि एक वरिष्ठ अधिकारी की ड्यूटी लगाकर हर मृत्यु की वजह की जानकारी ली जाए फिर मृत्यु के कारणों को दूर किया जाए। अधिकारी देखें कि आंगनबाड़ी केन्द्रों में बच्चों को सुबह का नाश्ता अलग मिले दोपहर का खाना अलग हो। पोषण आहार की गुणवत्ता पर नजर रखी जाए। आंगनबाड़ी में अधिकारी पहुंचें। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का मोबाइल नंबर तथा निवास पता एक बोर्ड में प्रदर्शित किया जाए।बैठक में मेडिकल कालेज जबलपुर के डीन डॉ पीके कसार, मेडिकल कालेज चिकित्सालय के अधीक्षक डॉ राजेश तिवारी, रीजनल डायरेक्टर स्वास्थ्य डॉ ठाकुर सहित संबंधित विभागों के संभागीय व जिला स्तरीय अधिकारी, संयुक्त आयुक्त अरविंद यादव मौजूद थे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x