सिहोरा जनपद की इस पंचायत में हो रही आवास के पट्टो में खुलेआम दलाली

जबलपुर :सरकार द्वारा मंच से बड़े -बड़े भाषण दिए जाते है की हम इस देश से भृस्टाचार को जड़ से खत्म कर देंगे लेकिन जिस तरह से देश प्रदेश के सरकारी दफ्तरों और पंचायतों में आये दिन भृस्टाचार की खबरें सामने आती है इस बात से लगता है की नेताओं के भाषण सिर्फ मंच तक ही सिमिट कर रह गए है हकीकत कुछ और है जिसका ताजा मामला सिहोरा की गोसलपुर पंचायत में आया है जहां पर भृस्टाचार पूरी तरह चरम पर है हम बात कर रहे है जबलपुर के गोसलपुर पंचायत की जहाँ पर ग्रामीणों ने सरपँच सचिव पर भृस्टाचार में लिप्त होने का आरोप लगाये है ग्रामीणों का आरोप है की सरपंच व सचिव मिलकर अपनी मनमानी कर रहे हैं, यहां के सचिव द्वारा हर कार्य का रेट फिक्स किया गया है, गरीबी रेखा के कार्ड बनाने के लिए 2 हजार से 4 हजार रु तक लिए जा रहे हैं, ग्रामीणों को पट्टा दिए जाने के नाम 10 हजार रु अधिक रु की मांग की जाती है, इतना ही नही पट्टों के नाम से ग्राम सचिव द्वारा जमीन का खुला व्यापार किया जा रहा है, ओर उनके मन माफिक जमीन मुहैया कराई जा रही है, इसके लिए पूर्व में बांटे गए पट्टो पर कब्जा कराने धमकी तक दी जा रही है, गाँव के विकास के लिए आने वाली राशि का दुरुपयोग कर रहे हैं। शंकर कालोनी में रहने वाले ग्रामीणजनों ने सचिव पर आरोप लगाते हुए संवाददाता को बताया कि उनके क्षेत्र में पानी की बड़ी समस्या है, क्षेत्र में रोड नही है, पानी के लिए उन्हें डेढ़ से दो किलोमीटर दूर से पानी भरने जाना पड़ता है, सरपंच , सचिव द्वारा पानी की समस्या से निजाद दिलाने कालोनी में रहने वाले प्रत्येक परिवार से 1000 रु की मांग की जा रही है, जबकि लगभग 200- 300 परिवार बसर कर रहे हैं, जबकि ग्रामीणों के बताए अनुसार पाइप लाइन बिछाने के लिए शासन से राशि स्वीकृत है,

आवासहीनों के पट्टो पर कब्जा कर मंहगी कीमत में बेच रहा सचिव

शासन ने आवासहीनों को रहने के लिए आवास योजना के तहत पट्टे दिए जा रहे है, इतना ही नही उन्हें मकान बनाने राशि भी मुहैया कराई जा रही है, लेकिन ग्राम सचिव विनय दुबे द्वारा क्षेत्र के पटवारी बलराम सिंह से सांठ गांठ कर उन पट्टो पर पुनः किसी अन्य लोगों को पट्टा दिया जा रहा है, इसके लिए सचिव द्वारा रातों रात कब्जा कराकर मंहगी कीमत में किसी अन्य व्यक्तियों को बेचने का आरोप ग्रामवासियों ने सचिव और पटवारी पर लगाया, इन कामों को अंजाम तक पंहुचाने के लिए ग्राम सचिव द्वारा लाठी चलाने और न मानने पर गोली मारने तक की धमकी दी जा रही है, ग्रामीण जनो द्वारा इसकी शिकायत कई बार थाने में भी की जा चुकी है, लेकिन अपनी मजबूत पकड़ के चलते आज तक ग्राम सचिव के ऊपर किसी भी तरह की कार्यवाही नही की जा रही है, ग्राम वासियों का कहना है कि आवेदन देकर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की माँग की है।

कई अपात्रों को दिया योजना का लाभ

क्षेत्रीय ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि सरपंच व सचिव ने आवास योजना में भी भारी भ्रष्टाचार किया है। जिन लोगों को योजना के तहत कुटीर दी जाना थी, उनको अब तक इसका लाभ नहीं मिला। इसके विपरीत कई अपात्र लोगों को कुटीर आवंटित कर दी गई। साँझा चूल्हा और नल-जल योजना में भी भ्रष्टाचार किया जा रहा है। तथा मनमानी करके उनके नाम बीपीएल सूची में जोड़ दिए हैं। विधवा पेंशन, मनरेगा सहित शासन की अन्य योजनाओं में भी भ्रष्टाचार किया जा रहा है।

इनका कहना है –

मुझे 2017 में पंचायत के द्वारा ही प्लाट का पट्टा दिया गया था, उक्त जमीन पर मैने पुराई करवाकर मकान बनाने जैसे ही काम लगवाया उसी जमीन के 3 पट्टे लेकर अन्य व्यक्ति आ गए और मेरा काम रोक दिया गया अब हमें सचिव विनय दुबे जगह खाली करने की धमकी दे रहा है, मेरी भूमि पर सचिव और पटवारी ने मिकलर 3 अन्य लोगों को पट्टा दे दिया, अब में कहां जाऊं शिकायत करने के बाद किसी भी तरह की सुनवाई नही हो रही है, – *नारायण दुबे, ग्रामीण*

साहब में 78 साल की हूँ, में यहां 40 साल से रहत हूँ , में बर्तन मांजकर अपना गुजारा करत हूँ साहब हमे पेंसिल भी नई देत, सचिव पैसा मंगत है, हमारी पट्टे वाली जमीन में सचिव ने रातो रात कब्जा करके कोउ पंडित खों बेच दई, अब हम किराए से रहत हैं, बेटा हमारी समस्या हल कोई ने करहे का, घर, जमीन छुड़ा लई, सचिव पेंसिल भी नई दे रहो – *सुलोचना बाई बर्मन बुजुर्ग महिला गोशलपुर*

मेने आज ही अपना प्रभार लिया है आपके द्वारा मामले की जानकारी प्राप्त हुई, ऐसा हो सकता है, बड़ा ही पेचीदा ओर गंभीर मामला है में टीम गठित कर जांच करवाने का आश्वाशन दे रहा हूँ, किसी भी तरह की गड़बड़ी मे कड़ी कार्यवाही करने जिला पंचायत को लिखूंगा- *यजुवेंद्र कोरी सीईओ सिहोरा*

किसी के पट्टे पर किसी अन्य को पट्टा दिया जाना ये संभव नही है, अगर ऐसा हो रहा है, तो निश्चित की कार्यवाही की जाएगी, में जांच के आदेश जारी कर रहा हूँ, *एल के यादव,तहसीलदार सिहोरा*

शेयर करें: