सिंगौद के खरीदी केन्द्र प्रभारी के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही के निर्देश

कलेक्टर ने किया खरीदी केन्द्रों का आकस्मिक निरीक्षण
जबलपुर : कलेक्टर श्रीमती छवि भारद्वाज ने समर्थन मूल्य पर किसानों से गेहूं के उपार्जन के लिए बनाये गये खरीदी केन्द्रों का आज आकस्मिक निरीक्षण किया । इस दौरान उन्होंने खरीदी केन्द्रों से गेहूं के उठाव की धीमी गति पर अप्रसन्नता व्यक्त की, वहीं अपने सामने किसानों से खरीदे गये गेहूं की तुलाई करवाई और बोरियों में भरकर रखे गये गेहूं की गुणवत्ता की जांच भी की । श्रीमती भारद्वाज ने निरीक्षण में बड़ी मात्रा में रखे नॉन एफएक्यू और खराब गुणवत्ता के कारण रिजेक्ट किये गये गेहूं को खरीदी केन्द्रों से तत्काल हटवाने के निर्देश भी अधिकारियों को दिये । गेहूं खरीदी केन्द्रों के आकस्मिक निरीक्षण में अपर कलेक्टर डॉ. सलोनी सिडाना भी कलेक्टर के साथ मौजूद थीं । कलेक्टर ने उपार्जन केन्द्रों के आकस्मिक निरीक्षण की शुरूआत पनागर उप कृषि उपज मंडी स्थित केन्द्र से की । उन्होंने यहां अब तक की गई खरीदी और परिवहन का ब्यौरा अधिकारियों से लिया । श्रीमती भारद्वाज ने इस खरीदी केन्द्र पर नॉन एफएक्यू गेहूं के लगे ढेर पर नजर पड़ते ही खरीदी केन्द्र प्रभारी से कैफियत मांगी । उन्होंने खराब गुणवत्ता के कारण रिजेक्ट किये गये गेहूं को तत्काल खरीदी केन्द्र से हटाने की हिदायत अधिकारियों को दी । उन्होंने तुलाई के बाद बोरियों में लगाये गये टेग पर किसानो के नाम का उल्लेख अनिवार्यत: करने के निर्देश भी दिये । पनागर उप कृषि उपज मंडी के बाद कलेक्टर ने सिंगौद स्थित खरीदी केन्द्र का भी निरीक्षण किया । उन्होंने इस खरीदी केन्द्र पर छन्ना, पंखा और माईश्चर मीटर की अनुपलब्धता पर नाराजी व्यक्त की तथा नॉन एफएक्यू गेहूं की तुलाई करने पर खरीदी केन्द्र के प्रभारी के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के निर्देश अधिकारियों को दिये । कलेक्टर ने उपार्जन से जुड़े अमले को साफ शब्दों में चेतावनी दी कि बिचौलियों द्वारा इस व्यवस्था का अनुचित लाभ उठाये जाने की शिकायतें मिलने पर उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी । पनागर और सिंगौद के बाद कालाडूमर में की जा रही खरीदी के निरीक्षण में भी कलेक्टर को लगभग यही हालात देखने को मिले । उन्होंने यहां तुलाई के बाद बोरियों में भरकर रखे गये गेहूं की सेम्पलिंग कराने के निर्देश अधिकारियों को दिये । श्रीमती भारद्वाज ने कहा कि किसानों से एफएक्यू गुणवत्ता का ही गेहूं खरीदा जाये । उन्होंने यहां गेहूं के अव्यवस्थित रखरखाव पर भी अप्रसन्नता व्यक्त की । कलेक्टर ने खराब गुणवत्ता और नमीयुक्त गेहूं की तुलाई किये जाने, निर्धारित वजन से अधिक मात्रा में गेहूं की भराई करने, तथा छन्ना, पंखा और माईश्चर मीटर उपलब्ध न होने पर अधिकारियों से यहां की वीडियोग्राफी कराने तथा किसानों से बयान लेने के निर्देश भी दिये । कलेक्टर ने बाद में बुढ़ागर स्थित खरीदी केन्द्र का जायजा भी लिया तथा अधिकारियों को गेहूं के परिवहन और भण्डारण में गति लाने के सख्त निर्देश दिये । उन्होंने बुढागर केन्द्र के प्रभारी को गेहूं खरीदी की प्रतिदिन शाम को ऑनलाइन एंट्री करने की हिदायत भी दी ताकि किसानों को भुगतान में विलंब न हो । गेहूं खरीदी केन्द्रों के निरीक्षण के दौरान श्रीमती भारद्वाज ने किसानों से भी चर्चा की और परेशानियों से बचने के लिए उनसे एसएमएस मिलने पर ही खरीदी केन्द्र पर गेहूं लाने का आग्रह किया । कलेक्टर ने किसानों को एफएक्यू मापदंडों के मुताबिक साफ-सफाई कराकर अपनी उपज खरीदी केन्द्रों पर लाने की अपील भी इस मौके पर की । श्रीमती भारद्वाज ने खरीदी केन्द्रों के निरीक्षण के दौरान आवश्यकता के अनुरूप बारदानों की उपलब्धता बनाये रखने के निर्देश भी अधिकारियों को दिये ।

हरगढ़ साइलो कैप का लिया जायजा:
कलेक्टर ने उपार्जन केन्द्रों के निरीक्षण के बाद हरगढ़ में बनाये गये साइलो कैप में किसानों से की जा रही गेहूं की खरीदी का भी जायजा लिया । श्रीमती भारद्वाज ने यहां मौजूद किसानों से चर्चा करते हुए उनकी मांग के अनुरूप और आवक को देखते हुए प्रतिदिन सुबह 7 बजे से रात 8 बजे तक गेहूं की खरीदी करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये । उन्होंने हरगढ़ साइलो कैप में खरीदे गये गेहूं की ई-उपार्जन पोर्टल पर ऑनलाइन एंट्री करने की हिदायत भी अधिकारियों को दी, ताकि किसानों को शीघ्र भुगतान किया जा सके । कलेक्टर ने यहां गेहूं लेकर आने वाले किसानों के लिए छांव तथा ठंडे पानी की अतिरिक्त व्यवस्था करने के निर्देश भी दिये ।किसानों ने चर्चा के दौरान कलेक्टर को बताया गया कि खरीदी केन्द्रों की तुलना में साइलो कैप पर गेहूं लेकर आना कहीं ज्यादा सुविधाजनक है । बताया गया कि शुरूआत में धीमी आवक के बाद अब हरगढ़ साइलो कैप पर प्रतिदिन लगभग 9 से 10 हजार क्विंटल गेहूं की खरीदी हो रही है । किसान यहां ट्रेक्टर ट्राली में गेहूं भरकर ला रहे हैं । एक दिन में ही तुलाई हो जाने पर इस व्यवस्था के प्रति उनमें संतोष भी दिखाई दे रहा है ।
शेयर करें: