मोहर्रम व गणेश उत्सव में नहीँ बजेगा डीजे लंगर में प्रसाद फेंक कर नहीं हाथों में दिया जाए, एसपी अमित सिंह

0

जबलपुर :मोहर्रम एवं गणेश उत्सव पर्व को लेकर पुलिस कन्ट्रोलरूम जबलपुर मे रविवार एक सितंबर की दोपहर 2 बजे एसपी अमित सिंह द्वारा बैठक ली गयी एवं पूर्व में तैयारियों के सम्बंध में दिये गये निर्देशों के तहत की गयी कार्यवाही की समीक्षा की गयी।बैठक मे अति. पुलिस अधीक्षक शहर राजेश कुमार त्रिपाठी, अति. पुलिस अधीक्षक ग्रामीण डॉ रायसिंह नरवरिया अति. पुलिस अधीक्षक शहर (दक्षिण) डॉ. संजीव उइके , अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अपराध शिवेश िंसह बघेल, अति. पुलिस अधीक्षक यातायात अमृत मीणा, एवं समस्त राजपत्रित अधिकारी तथा समस्त थाना प्रभारी शहर/देहात उपस्थित थे।एसपी अमित सिंह (भा.पु.से.), ने कहा कि एैसे समय में कुछ अशांतिप्रिय एवं विध्नसंतोषी तत्व सक्रीय रहते है, जो पर्व के दौरान व्यवधान उत्पन्न करने का प्रयास करते है, एैसे लोगो पर सतत निगाह रखी जाये, अपने क्षेत्र मे लगातार भ्रमण करें, समाज के हर वर्ग के लोगो से आप सभी सवांद स्थापित करें, इससे आपको महत्वपूर्ण सूचनायें प्राप्त होंगी जो आने वाले दिनों में शांति एंव कानून व्यवस्था बनाये रखने में काफी उपयोगी होगी। एैसे आसमाजिक तत्व जिनके सम्बंध मे जरा भी अन्देशा है कि वे अशांति का वातावरण निर्मित कर सकते है चिन्हित करते हुये उनके विरूद्ध उनके अपराधिक रिकार्ड को दृष्टिगत रखते हुये प्रभावी प्रतिबंधात्मक कार्यवाही जिला बदर, एनएसए, की कार्यवाही करें। छोटी से छोटी घटना, की सूचना मिलने पर तत्काल पहुॅचे एवं विधि सम्मत कार्यवाही करें, किसी भी घटना को अनदेखा न करें। कार्यवाही निष्पक्ष हो इस बात का विशेष ध्यान रखें। गणेश जी की प्रतिमा की स्थापना हेतु तथा ताजिया एवं सवारी रखे जाने हेतु जो पण्डाल बनाये जा रहे हैं, सभी समिति के सदस्यों को बताया जाये कि बारिश का समय है, वॉटर प्रूफ पण्डाल अनिवार्य रूप से बनाये जायें, ताकि स्थापित प्रतिमा/ताजिया/सवारी मे किसी भी प्रकार की छति न पहुंचे । यदि किसी प्रकार की कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित हुई तो समिति के पदाधिकारियों की जवाबदारी सुनिश्चित की जायेगी, साथ ही सुनिश्चत करायें कि बनाये जाने वाले सभी पण्डाल परम्परागत हों, विवादित स्थल पर न हों, बनाये जाने वाले पण्डाल से मार्ग अवरूद्ध न हों, उपर से विद्युत लाईन का तार न जा रहा हो, तथा विघुत साज सजावट मे कटे-फटे तार का उपयोग न किया जाये, एवं रोड को क्रास करती हुई विद्युत साज-सज्जा नहीं होनी चाहिये, रोड के किनारे विद्युत साज-सज्जा इस प्रकार की जाये जिससे आवागमन बाधित न हो।

डीजे पर पूर्णतः प्रतिबंध

वहीं बैठक में एसपी ने निर्देश दिए की डीजे प्रतिबंधित रहेगा डीजे/साउड संचालकों को बताया जाये कि 2 साउंड बाक्स की नियमानुसार अनुमति दी जाती है, दो साउड बाक्स से अधिक किसी भी पण्डाल मे नहीं लगायें, साथ ही धार्मिक गीत ही बजायें जाये, यदि आदेश का उल्लंघन किया जाना पाया जायेगा तो वैधानिक कार्यवाही की जायेगी, ।एैसे स्थान जहॉ पर गणेश प्रतिमाओं एवं ताजिया/सवारी की स्थापना हेतु पास-पास पण्डाल बनाये जाते है, साथ ही एैसे स्थान जहॉ पर पूर्व में साम्प्रदायिक विवाद हुये है उस स्थान के पास ही एक पुलिस का अस्थाई पुलिस सहायता केन्द्र बनाया जाये, जहॉ बीट प्रभारी एवं बीट मे तैनात कर्मचारी तथा प्रदाय किया गया अतिरिक्त बल मौजूद रहेगा, अस्थाई पुलिस सहायता केन्द्र में पीए सिस्टम लगाया जाकर पीए सिस्टम से लगातार एनाउंसमेट किया जाये।गणेश प्रतिमा एवं सवारी/ताजिया की स्थापना करने वाले मुख्य आयोजक/समिति अध्यक्ष के लिये एक शपथ पत्र का प्रारूप सभी थाना प्रभारियों को ाभेजा गया है, उसकी एक प्रति दी जाकर, शपथ पत्र पर हस्ताक्षर कराया जाये, ताकि जवाबदारी निर्धारित की जा सके। सभी को बताया जाये कि आयोजकगण चौबीसों घण्टे अपनी झांकी/प्रतिमा की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार होगें जिसके लिये समिति के 2-2 सदस्यां को, सुरक्षा ड्युटी हेतु लगवायें, कौन किस दिन रहेगा इसकी जानकारी समिति के आयोजकों से प्राप्त कर ली जाये। मुख्यचल समारोह में स्वागत मंच लगाये जाते हैं, लगाये जाने वाले स्वागत मंच पंरम्परागत हों एवं इस प्रकार लगाये जाने कि आवागमन अवरूद्ध न हों, ।जो बेंड पार्टियॉ रहती है, स्वागत मंच के सामने खडे होकर अपने प्रचार प्रसार हेतु धुन बजाते है जिससे अनावश्यक विलंम्ब होता है, अतः मंच के सामने उतनी ही देर रूकें जितनी देर में प्रतिमा का पूजन होता है, अनावश्यक खडे होकर ध्ुन न बजायें।थाना क्षेत्र के सभी छोटे बडे सभी धार्मिक स्थलों को चिन्हित करते हुये धार्मिक स्थलों की सुरक्षा हेतु , धार्मिक स्थल के पुजारी एवं धार्मिक स्थल की देखरेख करने वालों तथा धार्मिक स्थल के आसपास रहने वालों की एक बैठक लेकर चर्चा कर कम से कम दो लोगों को जवाबदारी सौपी जाये।

लंगर फेंक कर नहीँ हाथों में दें ,

वहीं लंगर का आयोजन करने वाले आयोजकों की बैठक ली जाकर बताया जाये कि लंगर फेंक कर नहीं पैकिट मे दिया जावे, साथ ही लंगर एैसा हो जिसे सभी लोग ग्राह कर सकें, क्योकि लंगर प्रसाद होता है। लंगर बांटने हेतु प्रायः देखा गया है कि बडे बडे ट्रकों का उपयोग किया जाता है, रास्ता सकरा होने के कारण काफी परेशानी होती है, इसे ध्यान मे रखते हुये छोटे वाहनों का उपयोग लंगर बांटने मे किया जाये, जिससे लंगर को हाथ मे देने एवं मार्ग मे चलने मे सहूलियत होगी। विर्सजन घाटों की साफ सफाई एंव प्रकाश व्यवस्था सम्बंधित विभाग से चर्चा कर, कराया जाना सुनिश्चित करें। स्थापित गणेश प्रतिमाओं एवं ताजिया/सवारी का विसर्जन कब एवं किस स्थान पर करेंगे उसका क्या मार्ग रहेगा, कितना समय लगेगा, आयोजकों से चर्चा कर जानकारी संकलित करें।

सोशल मीडिया में रहेगी पुलिस की नजर ,

सोशल मीडिया पर जातिगत एवं साम्प्रदायिक भावना से सम्बंधित आपत्तिजनक पोस्ट जिससे कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित हो सकती है प्रसारित करने वालों पर जबलपुर की सायबर टीम के द्वारा निरंतर निगाह रखी जा रही है। आमजनों से जबलपुर पुलिस की अपील है कि सोशल मीडिया पर प्राप्त होने वाली इस प्रकार की पोस्ट को फारवर्ड न करें, तत्काल पुलिस को सूचित करें, आपका नाम सर्वथा गोपनीय रखा जावेगा, सम्बंधित के विरूद्ध तत्काल विधि संगत वैधानिक कार्यवाही की जायेगी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x