मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी की हुई ‘घर वापसी’, बोले- मैं BJP में ही हूं, और रहूंगा भी

0

*मंगलवार की सुबह पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, पूर्व मंत्री विश्वास सारंग के साथ पहुंचे थे भाजपा कार्यालय, ऐलान किया कि वो कभी कांग्रेस में गए ही नहीं थे*
_______________

_________,_____
(यदुवंशी ननकू यादव )
_______________
सतना। मध्यप्रदेश के मैहर विधानसभा से भाजपा के बागी विधायक नारायण त्रिपाठी की ‘घर वापसी’ हुई है। मंगलवार की सुबह वो पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, पूर्व मंत्री विश्वास सारंग, सतना जिला अध्यक्ष नरेंद्र त्रिपाठी और भाजपा प्रदेश कार्य समिति के सदस्य चंद्रकमल त्रिपाठी के साथ भोपाल स्थित भारतीय जनता पार्टी के कार्यालय पहुंचे और ऐलान किया कि वो कभी कांग्रेस में गए ही नहीं थे।

कमलनाथ को बड़ा झटका, पूर्व मंत्री के साथ भाजपा ऑफिस पहुंचे ‘बागी’ विधायक, कहा- मैं बीजेपी में था और उसी में रहूंगा

सिर्फ अपने क्षेत्र के विकास के लिए सीएम कमलनाथ और मंत्रियों के संपर्क में था। मीडिया से कहा कि, कांग्रेस एक दिशा हीन पार्टी है। झगड़े किस परिवार में नहीं होते है। मैं बीजेपी में ही हूं और रहूंगा भी। शहडोल जिले के ब्यौहारी विधानसभा से विधायक शरद कौल भी हमारे साथी है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह की मौजूदगी में प्रेस कॉन्फ्रेंस की और इस पूरे मामले पर सफाई दी।
*दल-बदलू नेता के तौर पर बनी पहचान*

बता दें कि प्रदेश की राजनीति में दल-बदलू नेता के तौर पर पहचाने जाने वाले मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने मंगलवार को एक बार फिर अपना पाला बदल दिया है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने बयान में कहा कि नारायण त्रिपाठी कहीं नहीं गए थे। वह बीजेपी में थे, हैं और रहेंगे। वहीं पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए बोले जिन लोगों ने अपने विधायकों की संख्या 114 से बढ़ाकर 116 बताई। वो अपनी संख्या में फिर से सुधार कर लें। कांग्रेस प्रलोभन की राजनीति नहीं कर पाएगी। सीएम से मिलने का मतलब ये नहीं होता है कि वो उनकी पार्टी में शामिल हो गए हैं। वहीं सरकार गिराने से जुड़े सवाल पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने फिर से दोहराया कि कमलनाथ सरकार अपने अंतर्कलह से गिरेगी। उन्होंने साफ कर दिया कि नारायण त्रिपाठी झाबुआ उपचुनाव में पार्टी के लिए भी काम करेंगे।

*जुलाई में मारी थी कलटी*
जुलाई में विधानसभा सत्र के दौरान भाजपा के मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी और ब्योहारी विधायक शरद कोल ने क्रॉस वोटिंग की थी। इसके बाद दोनों ने मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में भाजपा और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पर गंभीर आरोप लगाए थे। इस दौरान दोनों विधायकों ने कांग्रेस सर कार को समर्थन देने की घोषणा की थी। नारायण त्रिपाठी ने इसे अपनी घर वापसी बताया था। त्रिपाठी 2014 में भाजपा में शामिल होने से पहले कांग्रेस के विधायक थे। वहीं शरद कोल भी 2018 के विधानसभा चुनाव के पहले शहडोल में कांग्रेस के उपाध्यक्ष थे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x