‘मैं भी चौकीदार’ कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी चौकीदार एक स्पिरिट है, एक भावना है.

जैसे -जैसे चुनाव नजदीक आते जा रहे है वैसे ही राजनैतिक सरगर्मी भी तेज हो गई है ‘मैं भी चौकीदार’के कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा की चौकीदार न कोई व्यवस्था है, न कोई यूनिफॉर्म की पहचान है न कोई चौखट में बंधा है. चौकीदार एक स्पिरिट है, एक भावना है.प्रधानमंत्री ने कहा, ‘देश की जनता फिर से एक बार हमें देश की सेवा करने का मौका देने वाली है. मुझे ख़ुशी है कि देश के युवा दूर का देखते हैं. हम राजनेता तो अभी 11 को क्या होगा या 21 को क्या होगा इसी में लगे पड़े हैं और आप शपथ के विषय में सोच रहे हैं. 2019 में जब मैं शपथ लूंगा, तो वो शपथ अकेला मोदी नहीं लेने वाला है, 130 करोड़ हिंदुस्तानी लेने वाले हैं और सबसे बड़ी शपथ होती है कि हम अधिकार और कर्तव्य को संतुलित करेंगे.’

उन्‍होंने कहा, ‘एक अध्यापक अपना कर्तव्य निभाता है तो विद्यार्थी का भविष्य बादल जाता है. एक पुलिस वाला अपना कर्तव्य निभाता है तो समस्याओं का समाधान अपने आप हो जाता है और उस अर्थ में हमारे देश में मुझे जो सफलता मिली है उसका मूल कारण जन भागीदारी है.

हर व्यक्ति के अपने सपने, अपनी इच्छाएं होती हैं. वो होनी भी चाहिए, लेकिन हम तय करें कि सबसे ऊपर देश हो. इससे हम सारी समस्याओं का समाधान निकाल लेंगे.’

बालाकोट एयर स्‍ट्राइक का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा, ‘बालाकोट मैंने नहीं किया, देश के जवानों ने किया है, हमारे सुरक्षा बलों ने किया है. इसलिए हम सबकी तरफ से उन्हें, सैल्यूट. जहां तक निर्णय का सवाल आता है तो आपने इस देश में बहुत सारे प्रधानमंत्री देखें हैं या उनके विषय में सुना है. 2014 में भी कई लोग उस कतार में थे. आज लाइन थोड़ी लंबी हो गयी है.

‘बालाकोट मैंने नहीं किया, देश के जवानों ने किया है, हमारे सुरक्षा बलों ने किया है. इसलिए हम सबकी तरफ से उन्हें, सैल्यूट. जहां तक निर्णय का सवाल आता है तो आपने इस देश में बहुत सारे प्रधानमंत्री देखें हैं या उनके विषय में सुना है. 2014 में भी कई लोग उस कतार में थे. आज लाइन थोड़ी लंबी हो गयी है.

शेयर करें: