मृत्यु के साथ रिश्ते मिट जाते हैं…….

0

🙏एक बार देवर्षि नारद अपने शिष्य तुम्बरू के साथ मृत्युलोक का भ्रमण कर रहे थे। गर्मियों के दिन थे। गर्मी की वजह से वह पीपल के पेड़ की छाया में जा बैठे। इतने में एक कसाई वहाँ से २५/३० बकरों को लेकर गुजरा।

🙏उसमें से एक बकरा एक दुकान पर चढ़कर मोठ खाने लपक पड़ा। उस दुकान पर नाम लिखा था – ‘शगालचंद सेठ।’ दुकानदार का बकरे पर ध्यान जाते ही उसने बकरे के कान पकड़कर दो-चार घूँसे मार दिये। बकरा ‘मैंऽऽऽ…. मैैंऽऽऽ…’ करने लगा और उसके मुँह में से सारे मोठ गिर गये।

🙏फिर कसाई को बकरा पकड़ाते हुए कहाः “जब इस बकरे को तू हलाल करेगा तो इसकी मुंडी मेरे को देना क्योंकि यह मेरे मोठ खा गया है।” देवर्षि नारद ने जरा-सा ध्यान लगाकर देखा और ज़ोर ज़ोर से हँसने लगे।

🙏तब तुम्बरू पूछाः “गुरुदेव! आप क्यों हँस रहे हैं? उस बकरे को जब घूँसे पड़ रहे थे तब तो आप दुःखी हो गये थे, किंतु ध्यान करने के बाद आप हँस पड़े। इस हँसी का क्या रहस्य है?”

🙏नारद जी ने कहाः “छोड़ो भी…. यह तो सब अपने अपने कर्मों का फल है, छोड़ो।””नहीं गुरुदेव! कृपा करके बताऐं।”

🙏अच्छा सुनो: “इस दुकान पर जो नाम लिखा है ‘शगालचंद सेठ’ – वह शगालचंद सेठ स्वयं यह बकरे की योनि में जन्म लेकर आया है; और यह दुकानदार शगालचंद सेठ का ही पुत्र है। सेठ मरकर बकरा बना और इस दुकान से अपना पुराना सम्बन्ध समझकर इस पर मोठ खाने गया।

🙏उसके पूर्व जन्म के बेटे ने उसको मारकर भगा दिया। मैंने देखा कि ३० बकरों में से कोई दुकान पर नहीं गया फिर यह क्यों गया कमबख्त? इसलिए ध्यान करके देखा तो पता चला कि इसका पुराना सम्बंध था।

🙏जिस बेटे के लिए शगालचंद सेठ ने इतनी महेनत की थी, इतना कमाया था, वही बेटा मोठ के चार दाने भी नहीं खाने देता और खा भी लिये हैं तो कसाई से मुंडी माँग रहा है “अपने ही बाप की”!

🙏नारदजी कहते हैं; इसलिए कर्म की गति और मनुष्य के मोह पर मुझे हँसी आ रही है। अपने-अपने कर्मों के फल तो प्रत्येक प्राणी को भोगने ही पड़ते हैं और इस जन्म के रिश्ते-नाते मृत्यु के साथ ही मिट जाते हैं, कोई काम नहीं आता, काम आता है तो वह है सिर्फ भगवान का नाम।

🙏अपने पापों ओर पुण्यों का हिसाब इंसान को खुद ही भोगना है…
🙏इसलिए,, भक्तों…मरने के बाद इस संसार से कोई नाता नहीं रहता केवल अपने कर्म फल ही शेष रहते हैं।

🙏सैकड़ों हाथों से इकट्ठा करो मगर हज़ारों हाथों से बांटो।
जय श्री कृष्ण राधे राधे

नाम: ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी

कुंडली परामर्श : 501/-

फेसबुक : https://www.facebook.com/nidhi.raj.986

यूट्यूब : https://www.youtube.com/channel/UCFTXzwS7IgSGw0qV3a0AEnw

अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892
मैं ज्योतिषाचार्य निधिराज त्रिपाठी आप सभी से अनुरोध करती हूं कि किसी भी कमेंट के नंबर को देखकर संपर्क ना करें क्योंकि यह नंबर मेरे नहीं और इन नंबरों को देखकर अगर आप संपर्क करते हैं तो इसकी जिम्मेदारी स्वयं आपकी होगी क्योंकि मेरे जितने भी नंबर है मेरे वीडियो पर होते हैं मैं अलग से कोई भी नंबर फ्लैश नहीं करवाती हूं कृपया कर सावधान रहें lमेरा मात्र एक नंबर है जो मैं अब देने जा रही हूं l (9302409892) और इस नंबर के अलावा किसी दूसरे नंबर से अगर आप संपर्क करते हैं तो कृपया कर मुझे दोषी न ठहरा है इसकी जिम्मेदारी आपकी स्वयं की है

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x