मध्यप्रदेश के इस जिले में सबसे ज्यादा वायु प्रदूषण

0

( यदुवंशी ननकू यादव)
_______________
सतना : वायु प्रदूषण के मामले में सतना भी दिल्ली की राह पर चल पड़ा है। दीपावली के अवसर पर की गई आतिशबाजी एवं किसानों द्वारा खेतों में जलाई जा रही नरवाई से शहर की आबोहवा में जहर घुलना शुरू हो गया है। सोमवार को शाम होते ही आसमान पर धुंध छा गया। इससे शाम को दृश्यता घटकर एक किमी पर आ गई। ठंड के मौसम में आसमान पर छाई सफेद धुंध को लोग कोहरा समझ रहे हैं। लेकिन, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों का कहना है कि यह कोहरा नहीं बल्कि धुएं की परत है। आसमान पर छाया जहरीला धुआं शहर की आबोहवा खराब होने की ओर इशारा कर रहा। गुलाबी ठंड के बीच आसमान पर छाई धुंध से यह साफ हो गया कि स्मार्ट सिटी भी वायु प्रदूषण की जद में आ चुकी है। गौरतलब है कि दीपावली की रात प्रदूषण विभाग द्वारा की गई जांच में शहर में प्रदूषण का स्तर अलग-अलग स्थानों पर १३० से २१० तक दर्ज किया गया था, जो सामान्य से अधिक है।

नहीं चेते तो होगी मुश्किल

विंध्य की औद्योगिक राजधानी सतना प्रदूषण के मामले में देश के १०० शहरों में शामिल हो चुकी है। इसके बावजूद शहर में प्रदूषण रोकने संबंधी कोई पहल नहीं हो रही। प्रशासन की नाक के नीचे धुआं उड़ाते हुए सड़कों पर दौड़ रहे अनफिट वाहनों पर परिवहन विभाग द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जा रही। धान की खेती करने वाले किसान हॉर्वेस्टर से फसल कटाने के बाद पंजाब के किसानों की तर्ज पर खेत में ही नरवाई जला रहे। इससे भी शहर में प्रदूषण का स्तर तेजी से बढ़ रहा है। यदि जल्द ही बढ़ते वायु प्रदूषण की रोकथाम के लिए ठोस कदम नहीं उठाए गए, तो दिल्ली की तरह शहर की जनता का खुली हवा में सांस लेना मुश्किल हो जाएगा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x