भाजपा के दिग्गज नेता के सामने कांग्रेस का स्थानीय चेहरा दमोह संसदीय क्षेत्र में आमने सामने

दमोह तेन्दूखेड़ा जबेरा :दमोह भाजपा के गढ़ दमोह लोकसभा सीट पर इस बार कांग्रेस ने स्थानीय लोधी चेहरे को उतारकर मुकाबले को रोचक बना दिया है भाजपा ने मौजूदा सांसद प्रहलाद पटेल को फिर एक बार प्रत्याशी बनाया है प्रहलाद पटेल भी लोधी जाति से आते हैं मूलतः नरसिंहपुर के रहने वाले प्रहलाद पटेल केन्द्रीय मंत्री भी रह चुके हैं चार बार के सांसद पटेल को अब तक स्थायी सीट नहीं मिली है कांग्रेस प्रत्याशी प्रताप सिंह लोधी जबेरा विधानसभा क्षेत्र के विधायक रह चुके है 2018 का चुनाव हारने के बाद पार्टी ने उनको लोकसभा चुनाव में उतारा है
—————————————-
प्रताप सिंह लोधी कांग्रेस प्रत्याशी

*शिक्षा* -12 वीं
—————————————-
*ताकत* जमीनी पकड़ स्थानीय निकायों में भी सक्रिय रहे
————————————-
जबेरा से विधायक रहते समस्याओं के लिए सघंर्ष करने वाले नेता की पहचान मिली है
—————————————-
कांग्रेस संगठन में पकड़ कार्यकर्ताओं से संपर्क
—————————————-
*कमजोरी* दमोह जिले की राजनीति तक सीमित सागर व छतरपुर जिले की विधानसभा सीट में पकड़ नहीं।
—————————————-
*विधानसभा चुनाव बगावत की वजह से हार* -इतने बड़े चुनाव के लिए अनुभव की कमी
—————————————-

*प्रहलाद पटेल भाजपा प्रत्याशी*

*शिक्षा* – बीएससी एमए एलएलबी
—————————————-
*ताकत* लंबा राजनीतिक अनुभव
—————————————-
संगठन के विभिन्न पदों में काम करने से कार्यकर्ताओं में पकड़
—————————————
स्पष्टीवादी सोच सकारात्मक राजनीति पर फोकस
—————————————-
*कमजोरी* अभी तक कोई स्थायी क्षेत्र नहीं मिल पाया
————————————–
क्षेत्र के पार्टी के ही दूसरे बड़े नेताओं से सामंजस्य नहीं बना पाए।
—————————————-
विधानसभा चुनाव 2018 में पार्टी में विखराव का असर रहा।इससे नुकसान हो सकता है
—————————————-
*दमोह राजनीतिक समीकरण*
—————————————-
सामान्य वर्ग की लोकसभा सीट पर दोनों प्रत्याशी पिछड़े वर्ग के है।यहां इस वर्ग के मतदाताओं की संख्या सबसे अधिक है 2004 से अब तक लोधी समुदाय से भाजपा प्रत्याशी ही जीतते रहे हैं 2009 के चुनाव में भी आमने सामने लोधी प्रत्याशी थे जिसमें भाजपा ने जीत हासिल की थी 2014 में लोधी कुर्मी मैदान में थे तब भी जीत का भाजपा के खाते में आई थी! 2018 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को इस सीट में बगावत के चलते बड़ा नुकसान उठाना पड़ा था वरिष्ठ मंत्री जयंत मलैया तक चुनाव हार गए थे
—————————————-
*कांग्रेस*-किसानों को उचित मूल्य दिलाना बुंदेलखंड से पेयजल की समस्या का निदान के माध्यम से पलायन रोकना पहली प्राथमिकता है इस तीन मुद्दों को पर पूरे बुंदेलखंड क्षेत्र में कार्य करेंगे

*प्रताप सिंह लोधी दमोह कांग्रेस प्रत्याशी*
—————————————-
*भाजपा* सिंचाई, रेल,सड़क व चिकित्सा परियोजना के साथ किसानों को तुरंत भुगतान कराना पहली प्राथमिकता है जाति के नाम पर बांटने व लड़ाने वालों का राजनीति से खात्मा करना मुख्य ध्येय है

*प्रहलाद पटेल दमोह भाजपा प्रत्याशी*

शेयर करें: