राजस्व अमले ने किया रेत का बड़ा स्टॉक जप्त

0

जबलपुर सिहोरा :गोसलपुर क्षेत्र के अंतर्गत हिरन नदी किनारे घाटों में रेत माफिया द्वारा का जमकर खनन अवैध व्यापार किया जा रहा है पोकलेन व जेसीबी मशीनों से हिरन नदी को छलनी कर रेत निकाली जा रही है ।साथ ही गोसलपुर खिन्नी मार्ग में सड़क किनारे व खेतों में रेत के अवैध स्टॉक करके रखे गए हैं।शनिवार को राजस्व विभाग के अमले ने तहसीलदार मेघा पवार ,आर आई लखन पटेल,पटवारी नीरज कुररिया, बलराम परिहार ने गोसलपुर थाना क्षेत्र के हिरन नदी के घोराकोनी,किनगी व लखनपुर घाटो में छापामार कार्यवाही कर लगभग 160 ट्राली रेत का सड़क किनारे व खेतों में रखे बम्फर स्टॉक को जप्त किया।राजस्व विभाग ने रेत की जप्ती बनाकर ग्राम कोटवार के सुपुर्द किया।
* ग्राम वासियों का कहना है कि राजस्व विभाग गाहे-बगाहे जिस दिन कार्यवाही करता है उसके दूसरे दिन से फिर से डंपर हाइवा से पुनः रेत का परिवहन चालू हो जाता है बताया जाता है कि गोसलपुर के कचरा खिन्नी मार्ग से घाट सिमरिया के पास मोहतरा से वे बुढागर के कूड़ा कंजई तिराहे से प्रतिदिन वा रात्रि के समय सैकडो डम्फर रेत का परिवहन होते देखा जा सकता है।
*हिरन नदी के घाटों पर रेत माफिया का कब्जा-हिरन नदी के किनारे लगे गांव के घाटों पर रेतमाफियाओं ने अपना कब्जा कर रखा है। कभी कभार कार्यवाही होने से कुछ नही होता बाकी दिन माफिया फिर वही करता है जो उसे करना है।इनका प्रशासन की आंखों में धुल झोंककर और पुलिस प्रशासन की साठगांठ से भी इनकार नहीं किया जा सकता। दिनरात हिरन के घाटों पर माफिया जेसीबी मशीन से हजारों डम्पर रेत निकाल रहे हैं। गांव-गांव अवैध स्टॉक किया जा रहा है। एक दिन कार्यवाही कर बाकी दिन प्रशासन असहाय बनकर हाथ पर हाथ रखे रहती है। दिन व रात्रि पुलिस थानों के सामने रेत के वाहन बेरोकटोक निकल रहे हैं। पुलिस प्रशासन मूकदर्शक बना रहता है।
* घोराकोनी, कूड़ा, चन्नौटा, देवरी,कुकरई, मुरेठ गांव की नदियां के घाटों से रेत निकल रही है। यहां पर रेत माफियाओं के कब्जे हैं। दिन रात हो रहे अंधाधुंध अवैध उत्खनन से रेतमाफिया मालामाल हो रहे हैं, लेकिन कोई भी विभाग इस पर रोक लगाने में नाकाम है।
*ऐसा नहीं है कि रेत के अवैध खनन की जानकारी पुलिस या खनिज विभाग को न हो लेकिन इन पर स्थायी व ठोस कार्रवाई न होने से इनका कारोबार बैखोफ फल फूल रहा है। शिकायत होने पर छुटपुट कार्रवाई कर जिम्मेदार खामोस हो जाते हैं। इन दिनों हिरन नदी मे कूम्ही,मढ़ा मकुरा की नदियों से भी रेत निकाली जा रही है।
*नाकों पर रहती है गुप्तचरों की फौज-
रेत का कारोबार करने वाले इतने शातिर हैं कि उन्हें पकड़ा जाना बड़ा मुश्किल है। इनके द्वारा संभावित रास्तों पर गुप्तचर बैठा दिए जाते हैं, जो किसी भी खतरें को भांपकर अपने आकाओं को तुरंत सूचना पहुंचा देते हैं।
*कैसे पहुंच रही है शहर में रेत-
सूत्रों की मानें तो हिरन नदी से लगातार रेत का अवैध उत्खनन किया जा रहा है।गोसलपुर थाना क्षेत्र के सारे घाटों पर शासन द्वारा उत्खनन को लेकर प्रतिबंधित कर दिया गया है। बावजूद इसके शहर में हजारों की तादाद में डंपर, हाइवा और ट्रैक्टर से रेत का परिवहन किया जा रहा है। लेकिन पुलिस अधिकारियों की कार्रवाई नकाफी साबित हो रही है। जिससे आए दिन रेत के नए ठिकाने तैयार कर रेत माफिया अवैध खनन कर मोटी रकम कमा रहे हैं।
*इनका कहना है-गोसलपुर के घोराकोनी घाट से 160 ट्राली रेत का अवैध स्टॉक पकड़ा है।
मेघा पवार तहसीलदार सिहोरा

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x