प्रतिनिधिमण्डल के सदस्यों ने आयोग के निष्पक्ष और पारदर्शी मतदान प्रक्रिया को सराहा विदेशी प्रतिनि

विदेशी प्रतिनिधियों ने जबलपुर के मतदान केन्द्रों का किया अवलोकन

जबलपुर :भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, यहां के प्रत्यक्ष प्रजातांत्रिक चुनाव प्रक्रिया के बारे में बहुत कुछ सुना था। लेकिन आज मतदान प्रक्रिया देखकर भारतीय लोकतंत्र, निर्वाचन की पारदर्शिता और निष्पक्षता को देखकर हम सभी अचंभित और प्रभावित हैं। यहां की निष्पक्ष मतदान प्रणाली के बारे में हमारी धारणा और मजबूत हुई है। यह कहना है जबलपुर संसदीय क्षेत्र में आज हुए निष्पक्ष मतदान की व्यवस्थाओं का अवलोकन करने कई मतदान केन्द्रों में पहुंचे ब्राजील, जर्मनी, जापान और रशिया से आए विदेशी प्रतिनिधि मण्डल में शामिल अध्ययन दल के विशेषज्ञों का। विदेशी प्रतिनिधिमण्डल के अध्ययन दल में ब्राजील के फेडरल डी मीनास गरेस विश्वविद्यालय के सहायक प्राध्यापक डॉ हेल्सीमारा डीसूजा टेलीस, जर्मनी के जर्मन इंस्टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल सिक्योरटीज एण्ड अफेयर के सीनियर फेलो श्री एडमण्ड क्रिस्टीन वांगर, जापान के ग्रेजुएट स्कूल ऑफ एशियन एण्ड अफ्रीकन एरिया स्टडीज क्योटो यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर केजुया नाकामिजो और रशिया के गेगेरियन म्यूनिसपल काउंसिल सेवेस्टोपोल, ऐसेस्टेंट ऑफ द डिपुटी ऑफ द स्टेट ड्यूमा ऑफ द रशियन फेडरेशन के सदस्य श्री एवजेनी मानगुला शामिल थे। विदेशी प्रतिनिधिमण्डल के सदस्यों ने रॉयल सीनियर सेकेण्डरी स्कूल संजीवनी नगर के 8 मतदान केन्द्र, तेवर वार्ड स्थित शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय तेवर में बनाए गए तीन मतदान केन्द्रों, शासकीय आदर्श विज्ञान महाविद्यालय सिविल लाइन और शासकीय महाकौशल कला वाणिज्य महाविद्यालय स्थित 4-4 मतदान केन्द्रों में पहुंचकर मतदान प्रक्रिया का अवलोकन किया। इस दौरान नई दिल्ली से आए प्रतिनिधि श्री शाहरूख, विधि विशेषज्ञ श्री अर्जुन सिंह, जबलपुर निर्वाचन कार्यालय के स्वीप कार्यक्रम समन्वयक श्री उपेन्द्र यादव मौजूद रहे।
विदेशी अध्ययन दल के सदस्यगण मतदान केन्द्र के अंदर और बाहर की बेहतर व्यवस्था देखकर खासे प्रभावित हुए। उन्होंने मतदान केन्द्रों के बाहर मौजूद बीएलओ के पास उपलब्ध अप-टू-डेट मतदाता सूची, मॉकपोल प्रक्रिया, मतदाता पर्ची का घर-घर वितरण व्यवस्था, मतदाता परिचय प्रमाणीकरण हेतु 11 वैकल्पिक दस्तावेजों की व्यवस्था और प्रत्याशियों के नाम सहित सूची की संपूर्ण प्रक्रिया के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त किया। डाक्यूमेंटेशन की दृष्टि से प्रतिनिधिमण्डल के सदस्यों ने मतदान हेतु कतारबद्ध मतदाता और मतदान केन्द्र के बाहर का फोटोग्राफ्स भी लिया।विदेशी दल मतदान केन्द्र के भीतर पीठासीन अधिकारी व मतदान अधिकारियों की तैनाती व्यवस्था, सभी के कार्य विभाजन और कार्य करने के तौर-तरीके की सराहना की। उन्होंने ईव्हीएम और व्हीव्हीपेट से मतदान की निष्पक्षता, गोपनीयता और प्रत्याशी को दिए गए मत से स्वत: प्रमाणीकरण हेतु व्हीव्हीपेट के ड्रॉप बॉक्स में गिरने वाली पर्ची व्यवस्था से खासे प्रभावित हुए। दल ने भारत निर्वाचन आयोग द्वारा तय समूची चुनाव प्रक्रिया की मुक्तकण्‍ठ से प्रशंसा की। उन्होंने मतदाताओं का पंक्तिबद्ध अनुशासित व्यवहार, दिव्यांग, गर्भवती, धात्री महिलाओं और बुजुर्ग मतदाताओं को पंक्तिरहित मतदान की व्यवस्था और मतदान केन्द्र में मुहैया कराई गई मूलभूत सुविधाओं की जमकर तारीफ की।
ऑल वीमेन बूथ में बने आकर्षक और सुसज्जित सेल्फी कॉर्नर में पहुंचकर सभी विदेशी सदस्यों ने सेल्फी ली। मतदाताओं और सुरक्षाकर्मियों से चर्चा की। मतदान हेतु पति-पत्नी और पूरे परिवार का उत्साह के साथ आना, उन्हें काफी अच्छा लगा। सिविल लाइन क्षेत्र के मतदान केन्द्र में पहुंचने पर उन्होंने कुछ विशिष्ट मतदाताओं से भी बातचीत की। विदेशी दल मतदान दलों के मतदान केन्द्र में एक दिन पहले पहुंचने, रूकने, रहने, खाने-पीने और मतदान केन्द्र में शीतल पेयजल, शौचालय, विश्राम स्थान, शिशुगृह, छाया हेतु लगे पण्डाल व्यवस्थाओं की तहेदिल से सराहना की। इसके अलावा मतदान केन्द्र में राजनैतिक दलों के पोलिंग एजेंट तथा 100 मीटर की दूरी पर राजनैतिक दलों द्वारा लगाए गए मार्गदर्शन कक्ष, वहां की शांतिपूर्ण व्यवस्था को देखकर दल के सदस्यों ने भरपूर सराहना की।

शेयर करें: