पाटन में मूंग चोरों ने कर दी थी बृद्ध की हत्या चारों आरोपी गिरफ्तार

जबलपुर :पाटन थाना अंतर्गत हुई वृद्व की अंधी हत्या का खुलासा करते हुए पुलिस ने चारों आरोपीयों को गिरफ्तार कर लिया है कन्ट्रोल रूम में आज प्रेस वार्ता आयोजित कर एसपी अमित सिंह ने बताया की परछी में रखीं मूंग चुराते समय मृतक के जाग जाने पर पत्थर एवं डण्डे से हमला कर बृद्ध की हत्या कर दी गई थी आरोपियों के खिलाप थाना पाटन अपराध क्रमांक 383/19 धारा 449, 302 ता.हि.दर्ज करते हुए कार्यवाही की गई है
गिरफ्तार आरोपीयों में
1) कंछी उर्फ कंछेदी गौड़ ठाकुर पिता स्व. रमेश गौड़ ठाकुर उम्र 36 साल निवासी पथरोरा थाना पाटन जिला जबलपुर
2) दीपक गौड़ ठाकुर पिता शंकर गौड़ ठाकुर उम्र 22 साल निवासी ग्राम पथरोरा थाना पाटन जिला जबलपुर
3) रामकृष्ण उर्फ हकला गौड़ पिता स्व. मानसिंह गौड़ उम्र 26 साल निवासी पथरोरा थाना पाटन
4) राजेश लोधी ठाकुर पिता तखत सिंह लोधी ठाकुर उम्र 27 साल निवासी पथरोरा थाना पाटन ।
जप्ती- घटना में प्रयुक्त पत्थर, डण्डा एवं घटना के वक्त पहने हुए खून लगे कपड़े

ये है मामला :

दिनॉक 19-6-19 को थाना पाटन अंतर्गत ग्राम पथरौरा में हत्या होने की सूचना पर पहुंची पुलिस को प्रवेश कुमार चौधरी उम्र 51 वर्ष निवासी पथरौरा ने बताया कि वह एवं उसके पिता बद्री प्रसाद, भाई नरेश चौधरी एवं उनकी पत्नि तथा उसके भाई के साले की बेटी गाथा शर्मा उसके साथ रहती है। एक मकान अंहिंसा चौक मे भी है भाभी के पैर मे चोट होने से दोनो परिवार जबलपुर में अहिंसा चौक वाले घर पर था गॉव में उसके पिता एवं भाई के साले की लडकी थी, उसके पिता मकान की परछी में अकेले कई वर्षो से सोते आ रहें हैं, परछी में मूंग के 50 बोरे रखे थे। आज सुबह 7-30 बजे उसे गाथा शर्मा ने फोन से पिता बद्री प्रसाद के सिर हाथ, पैर मे चोट होने एंव हाथ पैर बंधे होने की जानकारी दी, वह तुरंत गॉव पथरोरा आया देखा कि उसके पिता बद्री प्रसाद चौधरी उम्र 85 वर्ष के शरीर पर गम्भीर चोटे थी खून निकला था, पिता के पैरो मे बंधी रस्सी को तोडा एवं मुंह से गमछे को हटाया, पिता की मृत्यु हो चुकी थी।मुझे एैसा लगता है कि दिनॉक 18-6-19 को रात 11 बजे से दिनॉक 19-6-19 के सुबह 7 बजे के बीच कोई अज्ञात चोर चोरी करने की नीयत से आया होगा , पिताजी द्वारा सोते से जागने एवं विरोध करने पर ,किसी चीज से उसके पिता के साथ मारपीट कर हत्या कर दिया एवं दोनो पैरों को रस्सी से व मुंह पर गमछा बांध दिया। कोई सामान नगदी जेवर आदि चोरी नहीं गया है।घटना से वरिष्ठ अधिकारियो को अवगत कराया गया। सूचना पर पहुंचे अति. पुलिस अधीक्षक ग्रामीण डॉ. राय िंसह नरवरिया, एसडीओपी पाटन के अवकाश पर होने के कारण प्रभारी एसडीओपी पाटन-एसडीओपी सिहोरा भावना मरावी, एफएसएल टीम, डॉग स्कवॉड, फिंगर प्रिंट टीम की उपस्थिति में बारीकी से निरीक्षत करते हुये पंचनामा कार्यवाही कर शव को पीएम हेतु भिजवाया गया । जांच पर पाया गया कि बद्री प्रसाद चौधरी कि अज्ञात व्यक्ति द्वारा किसी वस्तु से सिर, हाथ पैर पर चोट पहुंचाकर हत्या की गई है । पीएम कर्ता डॉक्टर ने भी बताया कि मृतक के सिर पर आई चोट से खून जमने के कारण मृत्यु हुई है । सम्पूर्ण जांच पर अज्ञात आरोपी के विरूद्ध अपराध क्रमांक 383/19 धारा 449, 302 भादवि का अपराध ंपजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

पैसों की तंगी से जूझ रहे थे इसलिए उठाया था ये कदम

वहीं घटना को गम्भीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक, जबलपुर अमित सिंह (भा.पु.से.) भी मौके पर पहुंचे थे तथा घटना स्थल का बारीकी से निरीक्षण करते हुए मृतक के परिजनों से बातचीत की एवं आरोपी की पतासाजी के सम्बंध में आवश्यक दिशा निर्देश दिये एवं आरोपी की शीघ्र की गिरफ्तारी हेतु आदेशित किया गया । आदेश की परिपालन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, ग्रामीण डॉक्टर राय सिंह नरवरिया एवं एसडीओपी सिहोरा श्रीमती भावना मरावी के मार्ग निर्देशन में थाना प्रभारी पाटन शिवराज सिंह के नेतृत्व में टीम गठित की गई।दौरान पतासाजी एवं पूछंतांछ के ज्ञात हुआ कि 7-8 वर्ष पूर्व मृतक के घर पर पथरौरा निवासी कन्छेदी गौंड़ ने चोरी की नियत से घुसा था जो पकड़ लिया गया था, माफी मांगने पर छोड़ दिया गया था । यह जानकारी लगते ही सरगमी से तलाश कर कन्छेदी गौंड़ उम्र 36 वर्ष निवासी पथरौरा को अभिरक्षा में लेते हुए सघन पूछंताछं की गई तो कन्छेदी गौंड़ ने बताया कि वह पल्लेदारी करता है, डेढ़ – दो सौ रूपये मजदूरी मिलती है पैसों की काफी तंगी रहती है, उसे मालूम पड़ा कि गांव के प्रवेश कुमार चौधरी सपरिवार जबलपुर गये हुए है, घर पर पिता एवं एक लड़की अकेली है तथा परछी में मूंग के 50 बोरे रखे हुए है । पैसों की तंगी दूर करने की लालच में उसने अपने गांव के साथी दीपक गौंड़, हकला गौड़, राकेश लोधी से मूंग चुराने की बात की, सभी सहमत हो गये, योजना के अनुसार रात्रि लगभग 3 बजे चारों परछी में पहुंचे और मूंग का बोरा उठा रहे थे तभी बद्री प्रसाद चौधरी जाग गये और उसे देखकर पहचान लिए तथा चिल्लाने को हुए तभी उसने गमछा से बद्री प्रसाद चौधरी का मुंह दबाकर गमछे से मुंह बांध दिया, उसके तीन साथियों ने बद्री प्रसाद चौधरी के हाथ पैर पकड़ लिए तथा चारों बद्री प्रसाद को उठाकर परछी से लगभग 15-20 फुट की दूरी पर लगे बैरी के पेड़ के नीचे ले जाकर डाल दिया, दीपक ने बद्री प्रसाद के सिर में पत्थर पटक दिया उसने पास ही पड़े डण्डे से हमला कर हाथ पैर में चोट पहुंचाई जिससे कुछ ही देर में बद्री प्रसाद की मृत्यु हो गई तो चारों भागकर अग्रवाल के भूसा वाले गोदाम में पहुंचे तथा लगभग आधे घण्टे गोदाम में छुपें रहें उसके बाद अपने – अपने घरों को चले गये । कन्छेदी गौंड के साथी दीपक गौंड़, रामकृष्ण उर्फ हकला गौड़ एवं राकेश लोधी की सरगमी से तलाश कर अभिरक्षा में लेकर सघन पूछंतांछ की गई तो तीनों ने भी चोरी करने की नियत से जाना तथा कन्छेदी गौंड़ को पहचान लेने की बात पर बद्री प्रसाद चौधरी की हत्या करना स्वीकार किया । आरोपियों निशादेही पर हत्या में प्रयुक्त पत्थर, डण्डा एवं घटना के वक्त पहने हुए कपड़े जप्त करते हुए आरोपियों की विधिवत् प्रकरण में गिरफ्तारी की गई है ।उल्लेखनीय है, कि घटना स्थल के निरीक्षण पर शुरू से ही लग रहा था कि मृतक के घर की परछी में रखी मूंग की चोरी करते समय मृतक के जागने व पहचाने के कारण हत्या की गई है । पकड़े गये चारो आरोपी पथरौंरा गांव के ही रहने वाले है, पल्लेदारी करते है तथा शराब पीने के आदी है । चारो अपने कृत्य को छुपाने के लिए मृतक की अतिंम दाह संस्कार कार्यक्रम में भी शामिल रहें ।

उल्लेखनीय भूमिका:

आरोपियो की गिरफ्तारी में थाना प्रभारी पाटन निरीक्षक शिवराज सिंह , परि. उनि. धर्मेन्द्र शर्मा, परि. उनि. एम.डी. अहिरवार , उनि. आरती मण्डलोई, आरक्षक प्रताप, मुकेश ठाकुर, अभिषेक कौरव, मुकेश पटेल, दिनेश मीणा, मोहन सल्लाम, दीपचंद, संजय रायपुरिया, महेश यादव की सराहनीय भूमिका रही । पुलिस अधीक्षक जबलपुर अमित सिंह (भा.पु.से) ने टीम को नगद पुरूस्कार से पुरूस्कृत करने घोषणा की है ।

शेयर करें: