पहले बनाया फिर बिगाड़ने चले आशियाने इन गरीबों का क्या कसूर ?

जबलपुर :पीएम आवास जब बनता है जब वहां का पट्टा या रजिस्ट्री होती है उसके बाद ही पीएम आवास बनाये जाते है लेकिन यहाँ पर पहले तो ननि ने गरीबों को पीएम आवास योजना के तहत आवास बनवाये लेकिन बाद में उन्ही आवासों को तोड़ने का फरमान जारी कर दिया अब ये कहाँ तक सही है की बनवाने वाला ही बिगाड़ने पर तुल जाए अब ऐसे में उन बेचारे गरीबों का क्या कसूर ? मामला जबलपुर के त्रिपुरी वार्ड स्थित रामनगर शहनाला बस्ती का है जहां पर प्रधानमंत्री आवास योजना के माध्यम से आवास नगर निगम की देख रेख में बनाए जा रहे है, और उन्हीं आवासों को नगर निगम के अतिक्रमण विभाग द्वारा अतिक्रमण बता कर तोड़ने की कार्यवाही कर घरों को नोटिस दे दिया है। रामनगर शाहनाला बस्ती में

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लगभग 180 आवास बनाए जा चुके है और 200 से ज़्यादा आवास स्वीकृत है, इनमें से करीब 15 आवास रमनगरा वॉटर प्लांट के करीब बने है और नगर निगम को पाइप लाइन बिछाने के लिए इन अवासो को अतिक्रमण बता डाला और तोड़ने के लिए अपने अधिकारियों को भेज दिया।।
आज बस्ती बसियों ने इसका विरोध किया और विरोध के रूप में मौन धरना प्रदर्शन किया।।बस्ती वालों का आरोप है कि निगम द्वारा उन्हें अतिक्रमण बता कर मकान तोड़ने की साज़िश है और अगर पाइप लाइन निकालने की बात है तो वहॉ काफी जगह है जहां से आसानी से पाइप लाइन डाली जा सकती है।।

शेयर करें: