पत्नी ने ही सहेली व बहन के साथ मिलकर कर दी थी पति की हत्या आडियो रिकाडिंग ने खोला राज

0

जबलपुर :एक पत्नी ने शराबी पति से पीछा छुड़ाने उसकी हत्या कर दी पुलिस ने 6वीं वाहिनी वि.स. बल में पदस्थ आरक्षक राकेश बेन की सनसनीखेज अंधी हत्या का खुलासा करते हुए बताया की पति से परेशान होकर पत्नि ने ही चचेरी बहन एवं सहेली की मदद से गला घोंट कर पति की हत्या कर दी थी साथ ही शव को ठिकाना लगाने में मृतक की सास ने भी सहयोग किया था पुलिस ने सभी आरोपीयों को गिरफ्तार कर लिया है

गिरफ्तार आरोपीयों में ,
1-श्रीमति दुर्गा बेन पति राजेश बेन उम्र 30 वर्ष निवासी एस.ए.एफ. क्वार्टर, ए ब्लाक एच.-2 रांझी, (पत्नि)
2-श्रीमति सुकरानी पति रंगा िंसह ठाकुर उम्र 55 वर्ष निवासी बम्हनी बंजर मण्डला (पत्नि की मॉ)
3-कु. काजल ठाकुर पिता गोपाल िंसह ठाकुर उम्र 22 वर्ष निवासी संजय नगर बडा पत्थर रांझी, (पत्नि की चचेरी बहन)
4- पडोस मे रहने वाली 16 वर्षिय किशोरी

जप्ती- मृतक की अंगुलिया में फंसे हुये लेडिज बाल, घटना मे प्रयुक्त चुनरी, मोबाईल, एक्टीवा ।

पुरानी पुलिस लाईन के पास मिला था शव ,

पुलिस की मानें तो थाना खमरिया में दिनॉक 29-6-19 को पवन गोटिया उम्र 35 वर्ष निवासी एन टाईप खमरिया ने सूचना दी कि वह खमरिया फैक्ट्री में फायर मैन के पद पर पदस्थ है, पुरानी पुलिस लाईन ई.डी.के. रोड किनारे बबूल के झाड़ के नीचे एक अज्ञात व्यक्ति जिसकी उम्र लगभग 35-40 वर्ष है मृत पडा है। सूचना पर पहुची पुलिस को एक अज्ञात व्यक्ति जो खाकी रंग का पैंट वर्दी वाला एवं पीले रंग की चौकडी शर्ट पहने हुये था, गले में गला घोंटने जैसे निशान थे। घटित हुई घटना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया। सूचना पर एफएसएल टीम, न.पु.अ. रांझी श्री धर्मेश दीक्षित, अति. पुलिस अधीक्षक दक्षिण डॉ संजीव उइके, पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री अमित सिंह (भा.पु.से.) पहुंचे। अज्ञात मृतक की शिनाख्तगी के प्रयास किये गये, जिस पर अज्ञात मृतक की शिनाख्त एस.ए.एफ में पदस्थ आरक्षक राकेश बेन उम्र 35 वर्ष निवासी एस.ए.एफ. क्वार्टर, ए ब्लाक एच.-2 रांझी, के रूप में पत्नि श्रीमति दुर्गा बेन एवं भाई सुरेन्द्र बेन के द्वारा की गयी। पंचनामा कार्यावाही कर शव को पीएम हेतु भिजवाते हुये अज्ञात आरोपी के द्वारा गला घोंट कर हत्या करना पाया जाने पर धारा 302,201 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर प्रकरण विवेचना में लिया गया।

आडियो रिकाडिंग ने खोला मौत का राज ,

घटना के बाद पुलिस की प्रारम्भिक पूछताछ पर भाई सुरेन्द्र बेन ने सुबह से दिखाई न देना तथा पत्नि दुर्गा बेन ने पूछताछ पर बतायी कि उसके पति शराब पीने के आदि हैं, जिन्होंने सोनू सोनकर से कर्जा लिया है, सोनू सोनकर बैंक से लोन दिलाने वाला भी था, सोनू सोनकर की तलाश की जो घर पर नहीं मिला, इसी बीच रात्रि 11-30 बजे थाना खमरिया में पदस्थ वरिष्ठ महिला आरक्षक 1324 आरती सोनकर ने अति. पुलिस अधीक्षक दक्षिण डॉ. संजीव उइके को बताया कि उसके भाई सोनू सोनकर ने उसे एक आडियो रिकार्डिंग भेजी है, जिसमें राकेश की पत्नि दुर्गा बेन द्वारा पति की हत्या करने की बात कही जा रही है, साथ ही ऑडियो क्लिप अति. पुलिस अधीक्षक दक्षिण डॉ. संजीव उइके को महिला आरक्षक आरती द्वारा भेजी गयी। रिकार्डिगं सुनने के बाद घटना की जानकारी लगते ही श्रीमति दुर्गा बेन से सघन पूछताछ की गयी तो दुर्गा बेन ने अपनी चचेरी बहन कु. काजल ठाकुर निवासी संजय नगर कालोनी बडा पत्थर रांझी, एवं घर के पास ही रहने वाली 16 वर्षिय किशोरी जो कि उसकी सहेली है के साथ मिलकर चुनरी से गला घोंट कर पति की हत्या करना स्वीकार किया, एवं बताया कि उसका पति शराब पीता था, एवं उसके चरित्र पर संदेह करते हुये मारता पीटता था, दिनॉक 28-6-19 को रात लगभग 11 बजे जब उसके पति अत्याधिक शराब के नशे मे थे तो उसने पति को पकड लिया, उसकी बहन काजल एवं सहेली ने चुनरी से गला घोंट कर हत्या कर दी, तथा दिनॉक 29-6-19 को सुबह 5 बजे अपनी मॉ सुकरानी ठाकुर जो कि बम्हनी बंजर मण्डला मे रहती है को पूरी बात बतायी तो मॉ भी उसके घर आ गयी तथा दोपहर लगभग 2-15 बजे अपनी सहेली की एक्टीवा में पत्नि राकेश बेन के शव को उसने एवं उसकी मॉ तथा बहन के सहयोग से बीच में रखा, एक्टीवा को उसकी चचेरी बहन काजल चला रही थी, वह पीछे मृत पति को पकडकर बैठ गयी, तथा शव को वैस्टलैण्ड होते हुये पुरानी पुलिस लाईन सून-सान जगह में ले गये तथा बबूल के झाड़ के नीचे फेंक कर सीधे घर आ गये। जब वह पति के शव को एक्टीवा में अपनी चचेरी बहन की मदद से लेकर जा रही थी पीछे-पीछे एक आटो मे उसकी मॉ एवं उसकी सहेली भी आ रही थी। वहीं सोनू सोनकर ने पूछताछ पर बताया कि दिनॉक 29-6-19 को सुबह लगभग 11-30 बजे राकेश की पत्नि दुर्गा बेन का फोन उसके मोबाईल पर आया, दुर्गा बेन पति की हत्या करना बता रही थी एवं उससे मदद मांग रही थी। सी.सी.टी.व्ही फुटेज खंगाले गये, जिसमें वैस्टलैण्ड पोस्ट आफिस मोड के पास दोपहर लगभग 2-52 बजे 2 महिलायें बीच मे एक व्यक्ति को जिसकी गर्दन झुकी है ले जाते हुये दिख रही है,।

उल्लेखनीय भूमिका ,

वहीँ इस अंधे हत्याकांड की गुथ्थी सुलझाने में थाना प्रभारी खमरिया जे. मसराम, सउनि रामाशीष सोलंकी, प्रधान आरक्षक अजय झारिया, आरक्षक गौरव यादव, महिला आरक्षक खुशबू, दर्शिता, का सराहनीय योगदान तथा वरिष्ठ महिला आरक्षक आरती सोनकर की विशेष भूमिका रही। पुलिस अधीक्षक अमित सिंह (भा.पु.से.) ने टीम को नगद पुरूस्कार से पुरूस्कृत करने की घोषणा की है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x