पत्नी की खूबसूरती बिगाड़ने पति मुंबई से लेकर आया था तेजाब ऐसे खुला राज

जबलपुर : 6 मई के दिन कटनी के रेलवे स्टेशन में अफरा तफरी मच गई जब लोगों को पता चला की किसी ने महिला के ऊपर तेजाब फेंक दिया है इस मामले में कटनी साउथ स्टेशन में अंबिकापुर एक्सप्रेस के डी-1 की बर्थ में सो रही पत्नी-बेटी पर तेजाब से हमला करने वाले आरोपी को जीआरपी ने काफी मशक्कत करते हुए गिरफ्तार किया और आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद इस पूरे घटनाक्रम का खुलासा कर दिया गया। आरोपी को जबलपुर के एक निजी अस्पताल से उस समय गिरफ्तार कर लिया गया जब वह इस वारदात को अंजाम देकर इधर उधर घूम रहा था और इसके बाद महिला को देखने के लिए जबलपुर आया हुआ था। इस पूरे घटनाक्रम में महिला का पति ही आरोपी निकला जिसने फिल्मी स्टाईल में पूरी कहानी रचने के बाद इस वारदात को अंजाम दिया था। जीआरपी के मुताबिक पति मुंबई में लोको पायलट है और वह अपने परिवार के साथ रहता है। उसकी पत्नी का मुंबई में किसी से अवैध संबंध था।

जिसकी जानकारी पति को लगने के बाद वह उससे नाराज चल रहा था। पत्नी की खूबसूरती बिगाड़ने के लिए उसने ही इस वारदात को उस समय अंजाम दिया। जब पत्नी चार साल के मासूम को लेकर अंबिकापुर से विगत 6 मई को जबलपुर में अपने रिश्तेदार के यहां आयोजित शादी समारोह में शामिल होने के लिए ट्रेन से जबलपुर आ रही थी।

गौरतलब है कि विगत 6 मई की दोपहर में कटनी साउथ स्टेशन में खड़े रहने के दौरान अंबिकापुर-जबलपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस उस समय अफरा-तफरी मच गई। जब ट्रेन में सफर कर रही अंबिकापुर निवासी मां-बेटी पर ट्रेन में ही एक युवक ने तेजाब से हमला कर दिया। अंबिकापुर से जबलपुर के बीच चलने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस के डी-1 बोगी में मां-बेटी के साथ सफर कर रहे अन्य यात्री जब तक कुछ समझ पाते तब तक आरोपी वारदात को अंजाम देकर फरार हो गया। वारदात की सूचना मिलते ही रेल पुलिस मौके पर पहुंच गई थी और तेजाब के हमले में झुलसी मां-बेटी को तत्काल जिला चिकित्सालय लेकर आई। जहां उनका प्राथमिक उपचार करने के बाद जबलपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस संबंध में जीआरपी ने बताया कि अंबिकापुर निवासी 52 वर्षीय महिला 6 मई को अपनी बेटी 32 वर्षीय व उसके चार वर्षीय पुत्र के साथ अंबिकापुर-जबलपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस के डी-1 कोच में किसी कार्यवश जबलपुर जा रही थी। बताया जाता है कि ट्रेन दोपहर ढाई बजे के लगभग जैसे ही कटनी साउथ स्टेशन पहुंची। वैसे ही ट्रेन में पहले से ही सवार एक युवक ने सीट पर सो रही मां-बेटी पर तेजाब से हमला कर दिया। शरीर व चेहरे पर तेजाब पड़ते ही मां-बेटी ने शोर मचाया तो बोगी के अंदर अफरा-तफरी मच गई और लोग कुछ समझ पाते इसके पूर्व आरोपी युवक वारदात को अंजाम देकर फरार हो गया।

एक दिन में पार किया तीन स्टेट
पत्नी व बेटी पर तेजाब से अटैक करने के बाद आरोपी पति बस से सवार होकर जबलपुर पहुंचा। जहां से वह विमानतल पहुंचा वहां से वह हैदराबाद पहुंचा और फिर हैदराबाद से हवाई मार्ग से मुंबई पहुंच गया था। इस तरह से आरोपी पति ने एक ही दिन में तीन स्टेट पार कर लिए थे।

मुंबई से साथ लेकर आया था तेजाब
इस संबंध में पुलिस अधीक्षक रेल सुनील कुमार जैन ने बताया कि महिला का पति इस वारदात को अंजाम देने के लिए अपने साथ मुंबई से ही तेजाब लेकर आया हुआ था। रेल पुलिस अधीक्षक श्री जैन ने बताया कि इस पूरे घटनाक्रम में विवेचना एवं अन्य साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं। आरोपी को पुलिस रिमांड मे लेकर विवेचना की अग्रिम कार्रवाही जीआरपी टीम द्वारा की जा रही है।

7 मई को जबलपुर पहुंचते ही हुई गिरफ्तारी
इस पूरे मामले का पर्दाफाश करने जबलपुर में आयोजित पत्रकारवार्ता में रेल पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार जैन ने बताया कि वारदात को अंजाम देने के बाद महिला का पति बाल कृष्ण यादव इस पूरे मामले में पुलिस से बचने के लिए पूरी फिल्मी स्टाईल मे काम करता रहा। जिससे पुलिस को उसके ऊपर कोई शक न हो। आरोपी विगत 7 मई को कल्याण से गरीब रथ में सवार होकर जबलपुर पहुंचा। जहां से वह जबलपुर के एक निजी अस्पताल में उपचार करा रही पत्नी को देखने के लिए गया हुआ था। जैसा कि घटना के बाद रेल पुलिस अधीक्षक इस पूरे मामले की पड़ताल करने मे लगे हुए थे और इसके लिए उनके द्वारा सायवर सेल की मदद ली जा रही थी। जिसके आधार पर आरोपी के आने की भनक जैसे ही लगी तो रेल पुलिस अधीक्षक श्री जैन दलबल सहित गोलबाजर स्थित नेशनल अस्पताल पहुंचे। जहां से आरोपी को गिरफ्तार कर उसे जीआरपी थाने लाया गया चूंकि घटना कटनी की होने के कारण आरोपी को कटनी जीआरपी के सुपुर्द कर दिया गया।

पहले संदेही आरोपी से हुई पूछताछ
वारदात के बाद मां-बेटी ने पूछताछ में रेल पुलिस को अंबिकापुर निवासी व पेशे से एमआर श्याम बिहारी गुप्ता नामक युवक पर तेजाब से हमला करने का संदेह जताया जा रहा था। जिसके बाद रेल पुलिस की एक टीम को तत्काल अंबिकापुर रवाना किया गया था। अंबिकापुर में पुलिस टीम ने संदेही आरोपी श्याम बिहारी गुप्ता को हिरासत में ले लिया था किन्तु जब पूरे घटनाक्रम से जुड़े सभी साक्ष्य जीआरपी के हाथ लगे तो दूध का दूध और पानी का पानी हो गया

शेयर करें: