दो अभ्यर्थियों के नाम-निर्देशन पत्र निरस्त

जबलपुर, लोकसभा निर्वाचन के तहत जबलपुर संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए दाखिल किये गये नामांकनों की संवीक्षा में दो अभ्यर्थियों के नाम-निर्देशन पत्र विधिमान्य नहीं होने पर निरस्त कर दिये गये हैं । इन अभ्यर्थियों में निर्दलीय उम्मीदवार की हैसियत से नाम-निर्देशन पत्र दाखिल करने वाले अनुराग कुमार गर्ग एवं अखिल भारतीय विकास कांग्रेस पार्टी के अभ्यर्थी के तौर पर नाम-निर्देशन पत्र जमा करने वाले प्रहलाद चौकीकर शामिल हैं । नाम-निर्देशन पत्र प्रस्तुत करने की प्रक्रिया के तहत दोनों अभ्यर्थियों द्वारा नामांकन पत्र के केवल एक-एक सेट ही दाखिल किये गये थे । इन अभ्यर्थियों द्वारा अपने नाम-निर्देशन पत्रों में दस-दस प्रस्तावकों के नाम दर्ज नहीं नहीं किये गये थे जो निर्वाचनों का संचालन नियम के मुताबिक अनिवार्य थे ।जिला निर्वाचन कार्यालय के अनुसार इन दो अभ्यर्थियों के नाम-निर्देशन पत्र निरसत किये जाने के अलावा एक अन्य अभ्यर्थी सुखदेव दाहिया द्वारा भरे गये दो में से एक नामांकन पत्र को पार्टी का नाम गलत दर्ज किये जाने के कारण निरस्त कर दिया गया है । श्री दाहिया द्वारा दाखिल किया गया नाम-निर्देशन पत्र का दूसरा सेट संवीक्षा में विधिमान्य पाया गया है । ज्ञात हो कि नाम-निर्देशन पत्र दाखिल करने की प्रक्रिया के तहत जबलपुर संसदीय क्षेत्र से 27 उम्मीदवारों द्वारा 34 नामांकन पत्र भरे गये थे । भरे गये नाम-निर्देशन पत्रों की संवीक्षा का काम निर्वाचन आयोग द्वारा तय कार्यक्रम के अनुसार आज बुधवार की सुबह 11 बजे से प्रारंभ हुआ । नाम-निर्देशन पत्रों की संवीक्षा रिटर्निंग अधिकारी एवं कलेक्टर श्रीमती छवि भारद्वाज द्वारा की गई । इस मौके पर भारत निर्वाचन आयोग की सामान्य प्रेक्षक श्रीमती व्ही. अमुथ्थावल्ली भी रिटर्निंग अधिकारी कक्ष में मौजूद थीं । दो अभ्यर्थियों के नाम-निर्देशन पत्र संवीक्षा में रद्द हो जाने के बाद अब जबलपुर संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की संख्या 25 रह गई है । निर्वाचन आयोग द्वारा तय कार्यक्रम के अनुसार उम्मीदवारी से शुक्रवार 12 अप्रैल की दोपहर 3 बजे नाम वापस लिये जा सकेंगे । नाम वापसी की इस समय-सीमा के बीत जाने के बाद उम्मीदवारों की अंतिम सूची तैयार की जायेगी तथा प्रतीक चिन्हों का आबंटन किया जायेगा
शेयर करें: