दस्तक अभियान को दें सर्वोच्च प्राथमिकता कलेक्टर ने स्वास्थ समिति की बैठक में दिए निर्देश 

जबलपुर :कलेक्टर भरत यादव ने दस्तक अभियान के प्रभावी क्रियान्वयन को सर्वोच्च प्राथमिकता देने के निर्देश जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में पदस्थ चिकित्सा अधिकारियों को दिए हैं। श्री यादव आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिला स्वास्थ समिति की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे । उन्होंने केंद्र एवं राज्य शासन द्वारा संचालित स्वास्थ्य योजनाओं एवं कार्यक्रमों के क्रियान्वयन की स्थिति की विस्तार से समीक्षा की । बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ मुरली अग्रवाल, जिला कार्यक्रम अधिकारी एम एल मेहरा तथा सभी ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर एवं महिला बाल विकास विभाग के सभी परियोजना अधिकारी मौजूद थे ।कलेक्टर ने चिकित्सा अधिकारियों से कहा कि उन्हें अपने-अपने क्षेत्र में दस्तक अभियान की प्रत्येक गतिविधि पर निगरानी रखनी होगी । उन्होंने अभियान के प्रति गम्भीरता बरतने की हिदायत देते हुए कहा कि बच्चों के स्वास्थ से जुड़े इस अभियान में अच्छा काम करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को सम्मानित किया जाएगा वहीं लापरवाही बरतने वालों को कठोर कार्यवाही का सामना करना पड़ेगा । श्री यादव ने दस्तक अभियान की प्रत्येक गतिविधि का प्रचार-प्रसार करने के निर्देश भी बैठक में दिए ताकि अभियान के प्रति आम लोंगों में जागरूकता पैदा हो। कलेक्टर ने दस्तक अभियान में समुदाय की भागीदारी सुनिश्चित करने पर बल दिया । उन्होंने घर-घर सर्वे के दौरान बच्चों में मिली बीमारियों की सही-सही रिपोर्टिंग करने के तथा इन पर अभियान के तहत ही आयोजित की जाने वाली ग्राम स्वास्थ सभाओं में समुदाय के साथ विस्तार से चर्चा करने निर्देश दिए । उन्होंने कहा कि स्वास्थ सभाओं में बच्चों में चिन्हित बीमारियों के साथ-साथ उनके पोषण स्तर, परिवार की खानपान एवं स्वच्छता सम्बन्धी आदतों तथा संक्रामक और जल जनित रोगों से बचने के उपायों पर भी समुदाय के साथ विस्तार से विचार विमर्श किया जाना चाहिए । कलेक्टर ने कहा कि बच्चों की बीमारी पर स्वास्थ सभाओं में चर्चा करने से होगा यह कि जो अभिभावक बच्चों के स्वास्थ को अपनी प्राथमिकता में नहीं रखते सामाजिक दबाब के चलते वो अपने बच्चों की बीमारियों को गम्भीरता से लेंगे और उनका इलाज कराने को भी तैयार होंगें । कलेक्टर ने बैठक में बर्षा काल के दौरान होने वाली जलजनित बीमारियों की रोकथाम के लिए अभी से सतर्कता बरतने के निर्देश स्वास्थ अधिकारियों को दिए । उन्होंने मलेरिया ,चिकनगुनिया , डेंगू जैसे रोगों की रोकथाम के लिए भी समुचित कदम उठाने तथा इनसे बचाव के उपायों के प्रति आम जनता में जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता भी बताई । श्री यादव ने बारिश के सीजन में सर्पदंश से मृत्यु के मामलों में कमी लाने सभी स्वास्थ केन्द्रों पर एंटी स्नेक वेनम के टीकों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए । उन्होंने कहा कि स्वास्थ केन्द्रों में पदस्थ सभी सहयोगी स्टॉफ को एंटी स्नेक वेनम इंजेक्शन के उपयोग के बारे में प्रशिक्षित करने कार्यशाला आयोजित की जाए ।श्री यादव ने इस अवसर पर ग्रामीण क्षेत्रों में पदस्थ सभी चिकित्सकों एवं स्टॉफ को निर्धारित मुख्यालय में ही निवास करने की हिदायत दी । उन्होंने संस्थागत प्रसव के मामले में खराब परफार्मेंस वाले स्वास्थ केन्द्रों के प्रभारी चिकित्सक एवं एएनएम को नोटिस जारी करने के निर्देश मुख्य चिकित्सा अधिकारी को दिए ।कलेक्टर ने बैठक में परिवार नियोजन कार्यक्रम के तहत मिले वार्षिक लक्ष्य को पूरा करने के निर्देश सभी ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर को दिए । उन्होंने अंधत्व निवारण, कुष्ठ नियंत्रण के तहत किये जा रहे कार्यों की समीक्षा भी की । श्री यादव ने पोषण पुनर्वास केन्द्रों के बेहतर संचालन के लिए स्वास्थ एवं महिला बाल विकास विभाग के बीच समन्वय की जरूरत बताई । कलेक्टर ने पोषण पुनर्वास केन्द्रों में भर्ती बच्चों की माँ को पौष्टिक आहार बनाने के बारे में प्रशिक्षित किये जाने पर ज्यादा जोर दिया ।श्री यादव ने मेडिकल, विक्टोरिया एवं एल्गिन अस्पताल के ब्लड बैंक में रक्त की निरंतर उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए सभी रक्त दाताओं का डेटा बेस तैयार करने के निर्देश दिए ताकि जरूरत पड़ने पर उन्हें रक्तदान के लिये बुलाया जा सके । उन्होंने रक्तदान शिविरों का आयोजन करने वाली संस्थाओं के बीच आपस में समन्वय स्थापित करने तथा रक्तदान शिविरों का बार्षिक कैलेंडर तैयार करने के निर्देश भी मुख्य चिकित्सा अधिकारी को दिए ।
शेयर करें: