दर्द से पीड़ित युवक को सरकारी अस्पताल में नहीँ मिला ईलाज तो युवक ने लगाई फाँसी

(गुड्डू पटवा )

कुंडम: एम पी में सरकार तो बदली लेकिन सरकारी अस्पतालों के हालात नहीं बदले कहीँ डॉक्टर कम है तो कहीं डॉक्टर नहीं है जिसके चलते रोजाना न जाने कितने ही लोग असमय मौत के शिकायर हो जाते है कुछ इसी तरह का मामला कुंडम के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का है जहां पर इलाज के लिए भर्ती मरीज अशोक सिंह ठाकुर 24 वर्ष ग्राम बरगांव निवासी ने स्वास्थ्य केंद्र के पीछे लगे जामुन के पेड़ पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली कुंडम स्वास्थ्य केंद्र बीएमओ की लापरवाही के चलते एक भी डॉक्टर ना मिलने एवं स्वास्थ्य कर्मचारी न रहने के कारण स्वास्थ्य केंद्र का मरीज दर्द से इतना ज्यादा परेशान था कि वह स्वास्थ्य केंद्र के पीछे जाकर लगे जामुन के पेड़ में अपने बेल्ट को निकाल कर उसे फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली मृतक का नाम अशोक सिंह पिता कमल सिंह ग्राम बर गांव का रहने वाला था मगर ग्राम उम्र भर में उसकी ससुराल थी तो वह वहीं रहने लगा था इलाज के लिए कुंडम स्वास्थ्य केंद्र आया था मगर रात में एक भी डॉक्टर स्टाफ न रहने के कारण वह दरवाजे से बाहर निकलकर झाड़ियों में चला गया झाड़ियों में जाकर लगे जामुन के पेड़ पर बेल्ट निकाल कर फांसी लगा ली जिससे स्वास्थ्य केंद्र की पोल खुली एवं लापरवाही उजागर हुई जिस की कार्रवाई के लिए ग्रामीणों ने मांग की है और पुलिस मामला कायम कर ली है पोस्टमार्टम के लिए रवाना कर दिया है

शेयर करें: