जिले के सभी 2128 मतदान केन्द्रों में होगा मतदान

0

मतदान प्रात: 7 बजे से, मॉकपोल प्रात: 6 बजे होगा

मतदान की सभी तैयारी पूरी, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम18 लाख 18 हजार 114 मतदाता करेंगे मतदान

22 अभ्यर्थियों के भाग्य का होगा फैसला कैमरे की निगरानी में रहेंगे कई मतदान केन्द्र

स्वतंत्र, निष्पक्ष चुनाव हेतु जिला प्रशासन मुस्तैद
जबलपुर , जिले में सोमवार 29 अप्रैल को स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी मतदान सुनिश्चित कराने के लिए सभी जरूरी व्यवस्थाएं और तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इस दिन जिले के 2128 मतदान केन्द्रों में 18 लाख 18 हजार 114 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर जबलपुर संसदीय क्षेत्र से लोकसभा का चुनाव लड़ रहे 22 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे। मतदान प्रात: 7 बजे से शाम 6 बजे तक होगा। मतदान शुरू होने के एक घंटे पहले अर्थात् प्रात: 6 बजे सभी मतदान केन्द्रों में मॉकपोल (दिखावटी मतदान) किया जाएगा। स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान संपन्न कराने के लिए जिले भर में सुरक्षा के कड़े और पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। स्थानीय पुलिस बल के साथ-साथ राज्य के बाहर से आई सशस्त्र बलों की तैनाती की गई है। लोकसभा चुनाव के इस महायज्ञ को संपन्न कराने के लिए सभी स्तरों को मिलाकर करीब 12 हजार मतदान कर्मी पूरे संकल्प के साथ निष्पक्ष मतदान कराने में अपनी सहभागिता निभाएंगे। जिले के सभी 2128 मतदान केन्द्रों पर नजर रखने के लिए 164 सेक्टर अधिकारी तैनात किए गए हैं। इन सभी को मजिस्ट्रियल अधिकार दिए गए हैं। कुल 2128 मतदान केन्द्रों में 217 ऑल वीमेन मतदान केन्द्र तथा दिव्यांग मतदाताओं के लिए 8 सुगम मतदान केन्द्र शामिल हैं। जबलपुर शहरी क्षेत्र में 11 आदर्श मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। जिले के 185 मतदान केन्द्रों पर निर्वाचन आयोग द्वारा सीधे वेबकास्टिंग से नजर रखी जाएगी। जबकि 241 मतदान केन्द्रों पर सीसीटीव्ही कैमरे से मतदान की हर गतिविधि रिकार्ड की जाएगी।
18 लाख 18 हजार मतदाता
जिले में कुल 18 लाख 18 हजार 114 मतदाता हैं । इनमें 9 लाख 40 हजार 154 पुरूष और 8 लाख 77 हजार 879 महिला मतदाता शामिल हैं । जबकि मतदाताओं की कुल संख्या में 81 थर्ड जेंडर के मतदाता भी शामिल हैं । जबकि प्रति एक हजार पुरूष मतदाताओं के पीछे महिला मतदाताओं की संख्या 933.76 है ।
मतदान की अपील
जिला निर्वाचन अधिकारी एवं कलेक्टर श्रीमती छवि भारद्वाज ने जिले के सभी मतदाताओं से 29 अप्रैल को निडर एवं निर्भीक होकर मतदान करने की अपील की है। कलेक्टर ने दिव्यांग, युवा और नए मतदाताओं के साथ-साथ महिला मतदाताओं से खासतौर पर आग्रह किया है कि वे स्वस्थ और मजबूत लोकतंत्र के लिए अपने मताधिकार का इस्तेमाल अवश्य करें।
डराने, धमकाने पर होगी कार्यवाही
मतदाताओं को डराने और धमकाने वाले व्यक्तियों के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही होगी। भारतीय दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 171 ख के अनुसार जो कोई निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान किसी व्यक्ति को उसके निर्वाचन अधिकार का प्रयोग करने के लिए उत्प्रेरित करने के उद्देश्य से नगद या वस्तु रूप में कोई पारितोषण देता या लेता है तो वह एक वर्ष तक के कारावास या जुर्माने या दोनों से दण्डित होगा। इसके अलावा भारतीय दण्ड संहिता की धारा 171 ग के अनुसार कोई व्यक्ति, किसी अभ्यर्थी, निर्वाचक या किसी अन्य व्यक्ति को किसी प्रकार की चोट पहुंचाने की धमकी देता है, वह एक वर्ष तक के कारावास या जुर्माने या दोनों से दण्डनीय होगा।
सार्वजनिक अवकाश
मतदान दिवस 29 अप्रैल को जिले भर में सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है। ताकि इस दिन सभी शासकीय कार्यालयों, निजी संस्थानों, कारखानों में कार्यरत अधिकारी, कर्मचारी एवं श्रमिक अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें।
सवैतनिक अवकाश
कारोबार व्यवसाय, औद्योगिक उपक्रम या किसी अन्य स्थापना में नियोजित प्रत्येक व्यक्ति को चाहे वो दैनिक मजदूर हो या आकस्मिक श्रेणी का हो उसे मतदान करने का अधिकार है और उसे मतदान के दिन सवैतनिक अवकाश दिया जाना आवश्यक है। यदि किसी नियोजक द्वारा इस प्रावधान का उल्लंघन किया जाता है तो उस पर 500 रूपए तक का जुर्माना किया जा सकेगा तथा उसके विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के तहत भी दण्डात्मक कार्यवाही की जाएगी। जिसमें एक माह तक के कारावास अथवा जुर्माने या दोनों से ही दण्डित किया जा सकेगा।
मतदान के लिए वैकल्पिक दस्‍तावेज
मतदान केंद्रों पर मतदान के समय मतदाता की पहचान के लिए फोटो मतदाता पर्ची को स्टैंड-अलोन पहचान दस्तावेज के रूप में स्वीकार नहीं किया जाएगा। मतदाता को वोट डालने के लिए मतदान केन्द्र पर मतदाता पर्ची के साथ फोटो मतदाता परिचय पत्र प्रस्तुत करना होगा। मतदाता परिचय पत्र अर्थात वोटर आईडी न होने की स्थिति में मतदाता 11 वैकल्पिक फोटो पहचान दस्तावेजों में से कोई एक दस्तावेज प्रस्तुत कर मतदान कर सकेगा । इनमें पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंन्स, राज्य/केंद्र सरकार के लोक उपक्रम या पब्लिक लिमिटेड कम्पनियों द्वारा अपने कर्मचारियों को जारी किए गए फोटोयुक्त सेवा पहचान पत्र, बैंकों/डाकघरों द्वारा जारी की गई फोटोयुक्त पासबुक, पैनकार्ड, एनपीआर के अंतर्गत आरजीआई द्वारा जारी किए गए स्मार्ट कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, श्रम मंत्रालय की योजना के अंतर्गत जारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड, फोटोयुक्त पेंशन दस्तावेज, सांसदों, विधायक या विधान परिषद सदस्यों को जारी किए गए सरकारी पहचान पत्र एवं आधार कार्ड वैकल्पिक दस्तावेज के रूप में मान्य किए जाएंगें।
प्रेक्षक रखेंगे नजर
सामान्य प्रेक्षक श्रीमती व्ही. अमुथ्थावल्ली से कोई भी नागरिक आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन अथवा चुनाव संबंधी शिकायत के लिए उनके मोबाईल नंबर 7648818042 पर संपर्क कर सकते हैं। साथ ही पुलिस व्यवस्था एवं सुरक्षा संबंधी मामलों के लिए पुलिस प्रेक्षक संजय कुमार कौशल से मोबाईल नंबर 7648818037 पर संपर्क किया जा सकता है। इसके अलावा व्यय प्रेक्षक वेदप्रकाश मिश्रा के मोबाइल नंबर 7648818040 पर संपर्क कर निर्वाचन व्यय संबंधी शिकायत की जा सकती है। निर्वाचन के टोल फ्री नंबर 1950 पर भी चुनाव संबंधी शिकायत व समस्याओं की जानकारी दी जा सकती है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x