जायफुल लर्निंग हेतु प्राथमिक व माध्यमिक शालाओं के शिक्षकों को बैठक सम्पन्न

जबलपुर सिहोरा,स्कूलों के प्रति बच्चों को आकर्षित करने के लिए शिक्षा विभाग द्वारा नित नए नवाचार किए जाते हैं। अब एक बार फिर बच्चों की शिक्षा को आनंदमय बनाने के लिए जॉयफुल लर्निंग योजना लाई गई है।नए शिक्षण सत्र 1 अप्रेल से कक्षा एक से 8 तक के शासकीय स्कूलों तक इस योजना के तहत काम भी किया जाना है। इसी तारतम्य में जन शिक्षा केंद्र शासकीय यशोदा बाई अ. कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय खितौला बाजार की अधीनस्थ 28 शासकीय प्राथमिक व 16 माध्यमिक शालाओं के सभी शिक्षकों की संकुल स्तर पर एक बैठक संकुल प्राचार्य श्रीमती शांति कुटार,बीआरसीसी सिहोरा पी एल रैदास व बीएसी ब्रजेश श्रीवास्तव की उपस्थिति में आयोजित की गई। बैठक में जानकारी देते हुए बीएसी ब्रजेश श्रीवास्तव ने बताया कि बच्चों को किसी भी विषय के बारे में समझाना बिल्कुल आनंदमय होगा।
जानकारी के अनुसार नए शिक्षण सत्र से जॉयफुल लर्निंग योजना शुरू हो रही है। यह शिक्षण सत्र अन्य शिक्षण सत्रों से बिल्कुल अलग होगा। पहले सत्र का आरंभ स्कूल चलें हम अभियान से किया जाता था, लेकिन अब जॉयफुल लर्निंग से सत्र शुरू होगा। इस योजना के तहत सत्रारंभ होने के पहले दिन से लेकर प्रतिदिन अलग-अलग आनंदमय गतिविधियां प्राथमिक व माध्यमिक स्तर के स्कूलों में आयोजित की जाएंगी। जब इन गतिविधियों में बच्चों को मजा आएगा, तो निश्चित ही स्कूलों में बच्चों की संख्या भी ज्यादा से ज्यादा बढ़ेगी। इस संबंध में राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा जारी दिशा निर्देश अनुसार
जॉयफुल लर्निंग योजना के तहत प्राथमिक व माध्यमिक स्कूल तक बच्चों के लिए विभिन्न प्रकार की गतिविधियां आयोजित की जाएंगी। प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों में 30 गतिविधियां आयोजित की जाएंगी जो गणित व हिंदी से संबंधित होंगी। हर गतिविधि की मॉनीटरिंग भी अधिकारियों द्वारा की जाएगी। स्कूल में हर दिन विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से बच्चों को पढ़ाई कराने की तैयारी की जायेगी।
*पालक सम्मेलन का होगा आयोजन-
शिक्षण सत्र के पहले दिन प्रत्येक स्कूल में शाला प्रबंध समिति की बैठक के साथ ही मातृ सम्मेलन का आयोजन भी किया जाएगा। साथ ही बालसभा का आयोजन भी होगा। बैठक में समिति सदस्य, ग्रामीणों द्वारा गांव का गौरव, लोकगीत, स्थानीय खेल, नाटक आदि रोचक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए जाएंगे। शिक्षकों की जिम्मेदारी रहेगी कि इस कार्यक्रम में सभी बच्चों की उपस्थिति सुनिश्चित करें।
* बैठक में जायफल लर्निंग संकल्पना क्रियान्वयन,विशेष बाल सभा का आयोजन, जॉय फुल लर्निंग हेतु सामग्री की उपलब्धता,जॉय फुल लर्निंग किट एवं अनेक जानकारियां बताई गई।
*बिना बस्ते के आएंगे बच्चे- जॉय फुल लर्निंग के अनुमान के अंतर्गत शाला के विद्यार्थी बिना वस्त्र के स्कूल आएंगे।पूर्वान्ह में जायफल लर्निंग अंतर्गत भाषा एवं गणित की दक्षता विकास के लिए गतिविधियां खेल का आयोजन होगा, अपरान में दक्षता उन्नयन अभ्यास पुस्तिका जो विद्यालय में संधारित है विद्यार्थियों को अभ्यास के अवसर दिए जाएंगे शिक्षकों द्वारा अभ्यास कार्य की नियमित जांच की जाएगी, प्रतिदिन अनिवार्य रूप से विद्यालय में खेल की गतिविधियां आयोजित होंगी।
बैठक में मुख्य रूप से जनपद शिक्षा केंद्र सिहोरा के बीआरसीसी पीएल रैदास, संकुल प्राचार्य श्रीमती शांति कुटार, बीएसी बृजेश श्रीवास्तव सहित 44 शासकीय प्राथमिक माध्यमिक शालाओं की शिक्षक उपस्थित थे।

शेयर करें: