ग्लोबल वार्मिंग से बढ़ रहा लगातार डेंगू और जीका का खतरा

नई दिल्ली ,पृथ्वी पर बढ़ते लगातार तापमान को लेकर जारी वैश्विक चिंताओं के बीच वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि ग्लोबल वार्मिंग से डेंगू और जीका का खतरा लगातार बढ़ रहा है। दुनियाभर में महीने के आधार पर तापमान में बदलाव की जांच करने वाले एक अध्ययन में दावा किया गया है कि 2080 तक करीब एक अरब लोग मच्छरों से होने वाली बीमारी जैसे डेंगू, जीका आदि की चपेट में होंगे। प्लस नेगलेक्टेड ट्रापिकल डिसीज जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में चेतावनी दी गई है कि जिन स्थानों पर मच्छरों के लिए अनुकूल जलवायु नहीं है, जलवायु परिवर्तन से वहां भी मच्छर फैल जाएंगे। मच्छर जो वायरस लाते हैं, वह सही परिस्थितियां मिलने पर वह बहुत तेजी से प्रकोप फैलाते हैं

मच्छर जितना जिम्मेदार है ग्लोबल वार्मिंग

अमेरिका की जार्जटाउन यूनिवर्सिटी के पोस्टडॉक्टरल फेलो कॉलिन जे कार्लसन ने बताया कि ग्लोबल वार्मिंग वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा और व्यापक खतरा है। मच्छर जनित बीमारियों में जितना मच्छर जिम्मेदार होता है उससे ज्यादा अब ग्लोबल वार्मिंग होता है। कार्लसन ने बताया कि ब्राजील में 2015 में जब जीका वायरस का प्रकोप हुआ तो उनकी चिंता और बढ़ गई

वैज्ञानिकों ने दो तरह के मच्छरों पर किया शोध

यूनिवर्सिटी आॅफ μलोरिडा के सैडी जे रेयान और कार्लसन के नेतृत्व में शोधकर्ताओं की एक टीम ने बीमारी फैलाने वाले दो मच्छरों एडीज इजिप्टी, एडीज अल्बोपिक्टस (टाइगर मच्छर) पर तापमान के प्रभाव का दशकों तक अध्ययन किया। इसके साथ ही यह भी जाना की भविष्य में तापमान का इन पर क्या प्रभाव पड़ेगा। कार्लसन ने बताया कि 2080 तक हालात बहुत विकट होंगे।

मच्छरों की आबादी में होगी अप्रत्याशित वृद्धि

दोनों प्रकार के मच्छर डेंगू, चिकनगुनिया और जीका वायरस जैसी दर्जनों उभरती बीमारियों के प्रवाहक होते हैं। ग्लोबल वार्मिंग से मच्छरों की आबादी में अप्रत्याशित वृद्धि होगी और पूरी दुनिया एक दिन इस खतरे का सामना करेगी।

सबसे खतरनाक जीव है मच्छर

शोधकर्ताओं के अनुसार जिन बीमारियों को अभी तक हम केवल ऊष्णकटिबंधीय जगहों की मानते हैं, वह पूरी दुनिया में फैल जाएंगी। डब्ल्यूएचओ के अनुसार मच्छर विश्व के सबसे खतरनाक जीवों में से एक है, जिसकी वजह से होने वाली बीमारियों से हर साल लाखों लोग जान गंवाते हैं।

शेयर करें: