किसानों से निरंतर संपर्क में रहें कृषि एवं उद्यानिकी विभाग का अमला कलेक्टर ने दिये निर्देश

कृषि और उद्यानिकी विभाग के कार्यों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिये निर्देश

जबलपुर :कलेक्टर श्री भरत यादव ने कृषि और उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों को किसानों को समन्वित खेती के लिए प्रोत्साहित करने के निर्देश देते हुए कहा कि इन विभाग के मैदानी अमले को किसानों से निरंतर संपर्क में रहना होगा और उन्हें कृषि की उन्नत तकनीक को अपनाने के लिए प्रेरित करना होगा ताकि जिले में कृषि का रकबा और उत्पादन बढ़ाया जा सके ।श्री यादव ने ये निर्देश कृषि एवं उद्यानिकी विभाग के कार्यों की समीक्षा के लिए आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित बैठक में दिये । कलेक्टर ने बैठक में किसान, खेती और उद्यानिकी को अपनी प्राथमिकता बताते हुए कहा कि और किसानों की बेहतरी के लिए जिले में हो रहे कार्यों की नियमित तौर पर समीक्षा की जायेगी तथा ग्रामीण क्षेत्रों के भ्रमण के दौरान कृषि एवं उद्यानिकी विभाग द्वारा किये गये कार्यों का निरीक्षण भी करेंगे । कलेक्टर ने फसल उत्पादन में वृद्धि के लिए किसानों को आधुनिक कृषि यंत्रों का इस्तेमाल करने की सलाह देने और इन्हें अपनाने के लिए प्रेरित करने की जरूरत भी बताई । उन्होंने एसआरआई पद्धति से धान की खेती करने वाले किसानों के बीच के पेडी ट्राँसप्लांटर का प्रदर्शन करने के निर्देश भी दिये ताकि किसान इसका इस्तेमाल करने प्रेरित हो और कम लागत में ज्यादा उत्पादन ले सकें । श्री यादव ने बैठक में उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों को भी उद्यानिकी फसलों का रकबा बढ़ाने के शासन से जिले को प्राप्त लक्ष्य को हासिल करने के निर्देश दिये । उन्होंने कहा कि किसानों को उद्यानिकी फसलों को अच्छी कीमत मिले इसके लिए स्टोरेज क्षमता और बेहतर मार्केटिंग के प्रयास भी करने होंगे । कलेक्टर ने जिले के ग्रामीण क्षेत्र में बनाये गये उद्यानिकी क्लस्टर में ज्यादा से ज्यादा किसानों को शामिल करने की जरूरत बताई । श्री यादव ने नर्मदा नदी के किनारे लगाये गये फलदार पौधों के संरक्षण के निर्देश भी उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों को बैठक में दिये । कलेक्टर ने बैठक में किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड के वितरण के कार्य में तेजी लाने की हिदायत भी दी । उन्होंने कहा कि किसानों को खेत की मिट्टी के अनुरूप ही फसल लेने की सलाह दी जानी चाहिए । श्री यादव ने कृषि और उद्यानिकी फसलों के लिए खाद-बीज की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के साथ-साथ खाद-बीज की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिये । कलेक्टर ने बैठक में जय किसान ऋण माफी योजना के दूसरे चरण की तैयारियां अभी से प्रारंभ करने की बात कही । उन्होंने फसल बीमा योजना के क्रियान्वयन की समीक्षा करते हुए उद्यानिकी फसलों को भी गिरदावरी में शामिल कराने के निर्देश दिये ताकि उद्यानिकी किसानों को भी फसल बीमा योजना का लाभ मिल सके । बैठक में उप संचालक कृषि एस.के. निगम तथा उद्यानिकी एवं कृषि से जुड़े सभी विभागों के अधिकारी मौजूद थे ।

शेयर करें: