किन्नरों ने पीएम मोदी के लिए कह दी बड़ी बात

जबलपुर कटनी :हमारे समाज का एक ऐसा अंग जिसको थर्ड जेंडर के नाम से जाना जाता है जिसकी सुबह किसी न किसी की खुशियों दुआ सलामती के लिए होती है ताकि उनका पेट भर सके, पर अफ़सोस लोगों के लिए दुआ करने वाले इसी किन्नर समाज को लोगों ने उपेक्षा की नजर से देखते है या ये कहा जाए की हमारा समाज घृणा और तंजिया तौर पर देखता है।….आइए अब उस किन्नर समाज की उस अंधेरी ज़िन्दगी पर नज़र डालते हैं जो मायूसी की कलम से और घृणा के आंसू से धुंधली पड़ी हुई है, न इनका कोई भाई-बहन है न कोई मां-बाप, ना ही कोई रिश्तेदार। हकीक़त तो यह है कि कोई इनके बारे में बात तक करना नही चाहता। जबकि ये रोज़ गले में ढोलक डाले अपनी ज़िन्दगी को खोजने निकलते हैं कि शायद नई सुबह के साथ इनकी ज़िन्दगी का भी नया आगाज़ हो।

आपको बता दे कि 25 जून 2019 की सुबह कटनी शहर के सावरकर वॉर्ड में रहने वाले किन्नर के घर 1 माह 5 दिन के बच्चे को लखनऊ के रहने वाले एक ऐडवोकेट परिवार के लोग छोड़ कर चले गए…इसका कारण यह था कि उनके घर।मे जन्मा बच्चा न तो लड़का था और न लड़की यानी वह किन्नर यूनि में जन्म लिया था…… और वे लोग समाज के डर से इस नंन्हे को कटनी के किन्नर के घर छोड़ चले गए।….किन्नरों की गुरु पलक ने बतया की वह कुछ दिनों पहले ट्रेन में सफर के दौरान इस बच्चे के नाना से मुलाकात हुई थी और वह उनका पता लेकर कटनी के सावरकर वॉर्ड उनके घर पहुँचे और पूरी बात बताई और यह गुजारिश करते हुए कहा कि वे लोग उस बच्चे को अपना ले क्यो की जहा उसकी बच्ची की थी

यह सुन कटनी शहर की किन्नर पलक ने उस बच्चे को अपनाने के लिए राजी हो गई जो आज सुबह पलक के घर पहुँचे और अपनी नंन्हे बच्चे को पलक के हवाले कर लखनऊ के लिए निकल गए…पलक का कहना है कि आज इस कलयुग में भी किन्नरों के जन्म होता है… लेकिन लोग इस समाज को घृणा के नज़रिए से देखने के कारण इन्हें अपनाते नही है और जहां भी किन्नर का जन्म होता है उस परिवार के लोग अपनी पहचान छुपा उस बच्चे की उनके हवाले कर देते है।..

किन्नर समाज की पीएम मोदी से मांग

वहीं किन्नर पलक ने पीएम मोदी से गुजारिश की है की जिस तरह वह समाज के हर वर्ग के लिए नए नए कानून व योजना बना कर केंद्र सरकार उन्हें लाभ पहुचा रही है …जैसे भारत देश मे कि कोई भी बच्चा य बच्ची जन्म होता है तो उनके लिए कोई न कोई योजना का लाभ मिलता ही है लेकिन यदि कोई किन्नर बच्चा जन्म लेता है तो उनके लिए ऐसी कोई योजना नही है कि जिसको लेकर पलक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की है कि कई योजनाओं जैसे किंन्नरो के लिए भी कोई ऐसी योजना बनाएं जिससे जो आज के समय जो किंन्नर का जन्म हो उन्हें उसका लाभ मिल सके।
पलक के घर पहुँचे इस नन्हे बच्चे से सभी किन्नर खुश है और उन्होंने सरकार से गुजारिश की है कि “समाज में रहने वाले हर व्यक्ति को जैसे सम्मान मिलता है ठीक वैसे ही हमारे किन्नर समाज को भी सम्मान मिलता रहे। हम सिर्फ एक दिन के लिए सम्मान नहीं चाहते हैं हम महीने के 30 दिन सम्मान की अपेक्षा करते हैं। हमें कोई कुछ भी बोले लेकिन हम हमेशा सब को यही दुआ देते हैं कि किसी के घर में कोई हम जैसा न पैदा हो।”

शेयर करें: