कातिलाना हमलावरों पर मेहरवान सिहोरा पुलिस कटवा रही फरारी

0

जबलपुर :एक तरफ तो पुलिस कप्तान अमित सिंह द्वारा अपराध व अपराधियो पर नकेल कसने के निर्देश सभी पुलिस अधिकारियों को दे दिए गए है लेकिन लगता है पुलिस कप्तान का आदेश सिहोरा पुलिस ने नहीँ सुना या सुना भी तो अनसुना कर दिया जब तो आज कातिलाना हमलावर जुर्म करने के बाद खुलेआम घूम रहे है और फरियादी पक्ष दहसत में है जिसका ताजा मामला सिहोरा थाना क्षेत्र के बंधा हरदुआ का है जहाँ पर राजेश यादव व उसके परिवार पर कातिलाना हमला करने वाले आरोपी खुलेआम घूम रहे है क्योंकि सिहोरा पुलिस के पास उन्हें गिरफ्तार करने का समय ही नहीँ ,या फिर सिहोरा पुलिस ही इन्हें फरारी कटवा रही है ये तमाम तरह के सवाल आज फरियादी पक्ष ने करते हुए बताया की घटना के डेढ़ माह बाद तो ले देकर पुलिस ने धाराएं बढ़ाई अब एक हफ्ते से आरोपियों को खुली छूट दे रखी है पुलिस के कृपापात्र आरोपी रोज सुबह गाँव से सिहोरा आ जाते है दिनभर सिहोरा में ही रहकर शाम के समय घर चले जाते है तो वहीं मजे की बात तो यह है की बीट प्राभारी व इस मामले विवेचक ए एस आई अन्नू सिंह द्वारा आरोपियों को इतनी खुली छूट दे दी गई है की आरोपी दिनभर थाना के इर्दगिर्द ही घूमते रहते है अब ऐसे में सवाल उठना लाजमी हो जाता है की सिहोरा पुलिस अपराध और अपराधियों पर नकेल कसने के लिए कितनी सख्त है

यह है पूरा मामला ;
प्राप्त जानकारी के मुताबिक 10 अक्टूबर 2019 को आरोपियों ने पहले तो अनलीगल तरीके से पड़ोसी के घर के पीछे बाड़ी लगाने पहुँच गए फिर मना करने पर पहले तो युवक के सर पर गैती व कुलाहड़ी ,बके से कातिलाना हमला कर दिया साथ ही युवक को बचाने आई उसकी माँ ,भाभी ,चाची ,चाचा ,पिता व अन्य परिजनों के साथ मारपीट की इतना ही नहीँ दबंगो ने मारपीट कर उल्टा घायलों के खिलाप ही मामला दर्ज करवाने पहुँच गए जबकि घटना में घायल युवक राजेश यादव के सर ,कान व पूरे शरीर मे इतनी गम्भीर चोटें आई है की सिहोरा अस्पताल से डॉक्टरों ने उसे जबलपुर रिफर कर दिया मामला कुछ इस प्रकार है ख़िरबा (हरदुआ बंधा )ग्राम में गुरुवार 10 अक्टूबर 2019 की शाम 4 बजे के लगभग अपने घर के पीछे अवैध रूप से बाड़ी लगा रहे कुठारी यादव ,उमेश यादव ,संदीप यादव ,बलदेव यादव ,मोजी यादव ,अनिल यादव ,हरप्रसाद द्वारा बाड़ी लगाने से मना करने आये राजेश यादव पर सब्ब्ल ,गैती व बके से हमला बोल दिया गया जिसे बचाने गई राजेश यादव की माँ पान बाई यादव ,पिता गणेश यादव ,चाचा ,सुरेश यादव ,चाची फम्फी यादव ,भाभी प्रीति यादव मौसी की लड़की रिंकी यादव को गम्भीर चोटें आई थीं

इनका कहना है ,में दिखवाती हूँ की आरोपियों की गिरफ्तारी क्यों नहीं की गई

एसडीओपी सिहोरा भावना मरावी

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x