कहां सो रहा माईनिंग विभाग? यहाँ झाड़ की आड़ में धड़ल्ले से हो रही रेत चोरी 

जबलपुर :जिले की जीवनदायनी नदियों को अभी भी रेत माफियो द्वारा खोखला किया जा रहा है नदियों से लगातार रेत का अवैध उत्खनन होने से जीवनदायनी नदियों के अस्तित्व पर संकट के बादल छाए हुए है एक तरफ तो प्रसासन द्वारा दावा किया जाता है हमनें रेत माफियों पर पूरी तरह नकेल कस ली है लेकिन रेत माफियों द्वारा अभी भी लगातार नदियों को खोखला कर रेत का अवैध उत्खनन व परिवहन किया जा रहा है अब ऐसे में सवाल उठता है की माईनिंग विभाग के अधिकारी ठंड में रजाई छोड़कर कहा सो रहा है 

हिरन नदी के घाट हो रहे खोखला 

वहीं सूत्रों की मानें तो सिहोरा अनुभाग के अंतर्गत आने वाली हिरन नदी के कछोहा, दराची गडचपा में रेत माफिया पूरी तरह सक्रिय है इतना ही नहीँ रेत माफियों द्वारा दिनदहाड़े हिरन नदी का सीना छलनी कर रेत का अवैध उत्खनन व परिवहन किया जा रहा है ,लगातार हो रहे रेत के अवैध उत्खनन व परिवहन से हिरन नदी के प्राकृतिक घाटों की शोभा बिगड़ती जा रही है इतना ही नहीँ ये घाट खाईनुमा होते जा रहे है 

रात से सुबह 10 बजे तक झाड़ की आड़ में हो रही रेत चोरी

वहीं सूत्र बताते है की हिरन नदी के इन घाटों में रात होती ही रेत का अवैध उत्खनन व परिवहन सुरु हो जाता है जो की दिन के उजाले में सुबह 10 बजे तक बताया जा रहा है की रेत माफिया जिस घाट से रेत की चोरी करते है उस घाट तक जाने वाले रास्ते मे झाड़ झंखाड़ रख देते है ताकि उनकी चोरी आम रास्ते से जा रहे राहगीरों को दिखाई न दे हलाकि रेत चोरी का ये नया फारमूला रेत माफियों द्वारा अभी नया -नया अपनाया गया है 
शेयर करें: