कनाड़ी नदी को सदानीरा बनाने भगीरथ प्रयास शुरू

0

जबलपुर : जबलपुर जिले के सिहोरा और मझौली तहसील की सूख चुकी कनाड़ी बाह नदी को पुनर्जीवित करने के लिए जिला प्रशासन ने ग्राम पंचायतों की मदद से भगीरथ प्रयास शुरू किया है । इसके तहत कनाड़ी बाह नदी के कछार (कैचमेंट एरिया) वाली 31 ग्राम पंचायतों के 51 ग्रामों में बरसाती पानी के बहाव को रोकने से संबंधित जल संरचनाओं का व्यापक निर्माण कर सूखी नदी को नया जीवन देने के लिए 127 करोड़ 61 लाख रूपए की कार्ययोजना पर अमल किया जा रहा है । अब तक 3 करोड़ रूपए से अधिक की लागत से संरचनाऐं निर्मित की जा चुकी हैं । कलेक्टर भरत यादव ने विगत दिनों गांवों का दौरा कर तालाब और स्टापडेम निर्माण कार्यों का जायजा लिया और इनमें तेजी लाने के निर्देश दिए। करीब डेढ दशक पहले तक पूरे साल सदानीरा रहने वाली लगभग 63 किलोमीटर लम्बी कनाड़ी बाह नदी समाज की अनदेखी के चलते अब दिसंबर माह में ही सूख जाती है । नदी की धारा को अविरल बनाने के लिए कैचमेंट एरिया की ग्राम पंचायतों सहित कनाड़ी बाह नदी के सहायक टेढ़िया नाला, पौड़ीहार नाला, दुगानी समेत सभी 4-5 नालों में बोल्डर चेक के माध्यम से बरसात का पानी रोकने की व्यवस्था की गई है, जिससे नदी के तटवर्ती गाँवों के भूजल स्तर में वृद्धि होगी । जनपद पंचायत मझौली के सीईओ मनीष शेंडे बताते हैं कि मझौली के 27 ग्राम पंचायतों के 40 गाँवों में बरसात का पानी रोकने व्यापक पैमाने पर संरचनाओं का निर्माण किया जा रहा है । चिन्हित स्थलों में बोल्डर चेक परकोलेशन तालाब, चेक डैम, कंटूर ट्रेंच, गेबियन, खेत-तालाब, गली प्लग और मेढ़ बंधान जैसी जल ग्रहण संरचनायें बनाई जा रही हैं । ताकि वर्षा जल की बूँद-बूँद को सहेजा जा सके और इसकी मदद से कनाड़ी बाह नदी पुनर्जीवित हो जाय । श्री शेंडे ने बताया कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना की मदद से ग्राम पंचायतें जल संरचनाओं का निर्माण करा रही हैं । कनाड़ी नदी को जीवित करने हेतु बन रही जल संरचनायें इस बात की मिसाल हैं कि सरकारी योजनाओं की मदद से समुदाय अपनी समस्याओं से कैसे निपट सकता है । नदी बहाली पुनर्जीवन कार्य के तहत विकासखंड मझौली के ग्राम पंचायत डूँडी, गांधीगंज, हरदुआकला, बरगी, मोहला, पहरूआ, दिनारी-खम्हरिया जैसी कई पंचायतों में जल संरचनाएं और तालाब बनाये गये हैं । इन्हीं संरचनाओं से मृत कनाड़ी बाह नदी को नया जीवन मिलेगा । वहीं जनपद पंचायत सिहोरा के सीईओ यजुवेन्द्र कोरी ने बताया कि सिहोरा के 4 ग्राम पंचायतों गुनहरू, कुर्रो, जुनवानीकला और मोहसाम में बोल्डर चेक सहित अन्य जल संरचनायें बनाई गई हैं । कनाड़ी नदी के पुनर्जीवन की कार्ययोजना दो चरणों में पूरी होगी । बन चुकी जल संरचनाओं में जहाँ इसी बारिश का पानी सहेजा जायेगा, वहीं बरसात बाद और संरचनायें बनाई जायेंगी ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x