कंगला टोंगबी की लड़ाई का प्लेटिनम जुबली समारोह

0

दिल्ली :एडवांस ऑर्डिनेन्‍स डिपो (एओडी) के 221 आयुध कर्मियों द्वारा 6/7 अप्रैल 1944 की रात को लड़े गए कंगला तोंगबी के युद्ध को द्वितीय विश्व युद्ध के भयंकर युद्धों में से एक माना जाता है। जापानी बलों ने तीन ओर से आक्रामक आक्रमण करके इम्फाल और इसके आसपास के क्षेत्रों पर कब्जा करने की एक योजना बनाई थी। इम्फाल तक अपनी संचार लाइन का विस्तार करने के प्रयास के तहत, 33वीं जापानी डिवीजन ने म्यांमार स्थित 17वीं भारतीय डिवीजन के मार्ग को अवरुद्ध करते हुए मुख्य कोहिमा-मणिपुर राजमार्ग पर अपना कब्‍जा जमा लिया और कंगला तोंगबी की ओर आगे बढ़ना शुरू कर दिया। कंगला तोंगबी में तैनात 221 एओडी की एक छोटी लेकिन दृढ़ टुकड़ी ने अग्रिम जापानी बलों को रोकने के लिए उनके खिलाफ कड़ा प्रतिरोध किया।

हालांकि तकनीकि दृष्टि से 221 एओडी की स्थिति बिल्कुल भी मजबूत नहीं थी। जब यह टुकडी हर तरफ से दुश्मन से घिर गई तो इसने अपनी आत्‍मरक्षा के लिए स्‍वयं की युद्ध क्षमता पर भरोसा किया। डिपो की रक्षा के लिए उपमुख्‍य आयुध अधिकारी (डीसीओओ), मेजर बॉयड को इस अभियान के संचालन का प्रभारी बनाया गया। हमले की तैयारी के लिए एक आत्मघाती दस्ता तैयार किया गया, जिसमें मेजर बॉयड, हवलदार/क्लर्क स्टोर के तौर पर कार्य करने वाले बसंत सिंह, कंडक्टर पक्केन के अलावा डिपो के अन्य कर्मी भी शामिल थे।

06 अप्रैल 1944 को डिपो से 4,000 टन गोला-बारूद, आयुध और अन्य युद्ध के सामानों को हटाने के आदेश मिले। 6/7 अप्रैल 1944 की रात को, जापानियों ने डिपो पर भारी हमला किया, लेकिन डिपो के निचले भाग की ओर एक गहरे नाले को एक सुरक्षा कवर के रूप में इस्तेमाल किया गया। इस नाले का बंकर के तौर पर उपयोग करते हुए यहां से दुश्‍मन पर भारी गोलीबारी की गई। इस हमले ने न सिर्फ दुश्‍मन को हिला दिया, बल्कि जापानियों के कई सैनिकों की मौत भी हुई और दुश्‍मन को अपने कदम वापस खींचने पर मजबूर होना पड़ा। इस हमले में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाने वाली ब्रेन गन को हवलदार और क्‍लर्क स्टोर, बसंत सिंह ने बनाया था।

वीरता के इस कार्य के लिए, मेजर बॉयड को मिलिट्री क्रॉस (एमसी), कंडक्टर पक्केन को मिलिट्री मेडल (एमएम) और हवलदार/क्लर्क स्टोर, बसंत सिंह कोभारतीय विशिष्ट सेवा मेडल (आईडीएसएम) से सम्मानित किया गया।

कंगला टोंगबी वॉर मेमोरियल, 221 एओडी, 19 के आयुध कर्मियों की कर्तव्य के प्रति अगाध श्रद्धा का एक मौन प्रमाण होने के साथ-साथ उनके सर्वोच्च बलिदान का भी प्रमाण है। यह स्‍मारक विश्‍व को यह बताता है कि आयुध कर्मी पेशेवर कार्मिक होने के अलावा युद्ध के समय में भी एक कुशल सैनिक के रूप से किसी से पीछे नहीं हैं। चूंकि यह कठिन लड़ाई प्लेटिनम जुबली का स्‍मरण कराती है। इसलिए भारतीय सेना के सभी स्‍तर के आयुध कोर कर्मियों के दिलों में कंगला तोंगबी की भावना अनंत काल तक उनके लिए प्रेरणा का स्रोत बनी हुई है।

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 6/7 अप्रैल 1944 की रात को हुई इस भयंकर लड़ाई में 221 अग्रिम आयुध डिपो के आयुध कार्मिकों के सर्वोच्‍च बलिदान को सम्‍मान देने हेतु इम्फाल के निकट कंगला तोंगबी युद्ध स्मारक पर सेना आयुध कोर के द्वारा 07 अप्रैल 2019 को प्लेटिनम जयंती के तौर पर मनाया जाता है।

कार्यक्रम का शुभारंभ लेफ्टिनेंट जनरल दलीप सिंह, वीएसएम, डीजीओएस के द्वारा इस युद्ध में शहीद हुए अंग्रेज और भारतीय सैनिकों को माल्‍यार्पण के साथ किया गया। कार्यक्रम के दौरान मुख्‍य अतिथि के रूप में सीनियर कर्नल कमांडेंट, वरिष्‍ठ अधिकारियों और कंगला तोंगबी युद्ध में भाग लेने वाले ब्रिटिश और भारतीय शहीदों के परिजनों को भी सम्‍मानित किया गया। इस अवसर पर स्थानीय नागरिक प्रशासन के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे। स्थानीय लोगों ने भी संपूर्ण आयोजन में उत्साहपूर्वक भाग लिया।

कांगला टोंगबी वार मेमोरियल में माल्यार्पण के अलावा, डीजीओएस और वरिष्ठ कर्नल कमांडेंट के साथ वरिष्ठ गणमान्य व्यक्तियों और ब्रिटिश एवं भारतीय शहीदों के परिजनों ने कांगला टोंगबी चाइल्डेंस होम का दौरा किया। इस मौके पर उपहारों का वितरण भी किया गया।

लेफ्टिनेंट कर्नल मोहित वैष्णव

पीआरओ (सेना)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x