ओशो महोत्सव के अंतिम दिन केन्द्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल, मंत्री हर्ष यादव व लखन घनघोरिया  हुए शामिल

0

जबलपुर :मध्यप्रदेश शासन अध्यात्म विभाग द्वारा प्रायोजित, जबलपुर टूरिज्म प्रमोशन काउंसिल एवं जिला प्रशासन जबलपुर द्वारा आयोजित तथा ओशो अनहद कम्यून, भोपाल व ओशो इंटरनेशनल कम्यून, पुणे द्वारा संयोजित त्रिदिवसीय ओशो महोत्सव का शुक्रवार को समापन हो गया। शक्ति भवन जबलपुर के तरंग सभागृह में सूफी व कथक नृत्य की मस्ती के साथ ओशो महोत्सव का समापन हुआ। सूफी के जरिए मनोज मिश्रा ने तो नीलांगी कलंत्रे ने कथक के जरिए तरंग प्रेक्षागृह में मौजूद प्रत्येक ओशो प्रेमी को भाव-विभोर कर दिया। इसके अलावा मेघा पांडे सहित अन्य कलाकारों की नृत्य प्रस्तुतियां भी मनोहारी रहीं।
ओशो महोत्सव के समापन दिवस पर सुबह 6.30 से 7.30 तक ओशो अनहद कम्यून, भोपाल की मां गतिता-मनजीत कौर के सानिध्य में नो डायमेंशन मेडिटेशन हुआ। इस दौरान देश-दुनिया से आए ओशो प्रेमी ध्यान की गहराई में डूबे फिर झूमकर नाचने लगे। इस तरह अपनी जाति आनंद और अपने गोत्र उत्सव का परिचय दिया।

राष्ट्रीय ओशो महोत्सव का प्रस्ताव आए तो करेंगे सहयोग:

ओशो महोत्सव के तीसरे व अंतिम दिन केन्द्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रहलाद पटेल, मध्यप्रदेश शासन के मंत्री हर्ष यादव व लखन घनघोरिया शामिल हुए। मंत्रीद्वय ने इस अवसर पर अपने विचार भी व्यक्त किए और राजकीय स्‍तर पर ओशो महोत्सव का आयोजन करने के लिए मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ को साधुवाद दिया। मंत्रीगणों ने महोत्सव के सफल आयोजन के लिए जिला प्रशासन को बधाई भी दी। केन्द्रीय मंत्री श्री पटेल ने ओशो प्रेमियों से चर्चा के दौरान भरोसा दिलाया कि यदि राष्ट्रीय ओशो महोत्सव का प्रस्ताव आएगा तो वे अवश्य सहयोग करेंगे और केन्द्र सरकार तक बात पहुंचाएंगे। प्रदेश शासन द्वारा आयोजित राजकीय ओशो महोत्सव के लिए सभी ओशो प्रेमियों को बधाई दी। गाडरवारा के ओशो प्रेमियों ने स्वामी ध्यान मैत्रेय-डॉ.प्रशांत कौरव के नेतृत्व में केन्द्रीय मंत्री श्री पटेल व विधायक जालम सिंह पटेल से मिलकर गाडरवारा के नजदीक बने नए रेलवे स्टेशन बरांझ का नामकरण ओशो के नाम पर किए जाने की मांग की।
शिक्षा के स्वरूव व राजनीति ओशो की नजर पर हुए व्याख्यान :
लेखक शिवकुमार तिवारी ने शिक्षा के स्वरूप को लेकर ओशो के विचारों को पिरोते हुए प्रेरक व्याख्यान दिया। अध्यात्म विभाग के पर मुख्य सचिव मनोज श्रीवास्तव ने भी इसी विषय पर अपनी बात प्रभावी तरीके से रखी। इस दौरान कांग्रेस प्रवक्ता मुकेश नायक मौजूद रहे। राजनीति ओशो की नजर में शीर्षक व्याख्यान-माला में हिंदी ग्रंथ अकादमी के पूर्व संचालक, नूतन कॉलेज के प्रोफेसर सुरेंद्र विहारी गोस्वामी का व्याख्यान भी ओशो प्रेमियों को खूब भाया। उन्होंने ओशो द्वारा राजनीतिक क्षेत्र में सुधार की आवश्यकता के बिन्दु को बड़ी खूबी से रेखांकित किया।
ओशो की नवीन पुस्तकों का हुआ विमोचन :
समापन सत्र में ओशो की नवीन संस्करण पुस्तकों सत्य की प्यास, मन का दर्पण व कोर्स ऑफ मेडिटेशन का विमोचन हुआ। ओशो इंटरनेशनल कम्यून, पुणे की मां अमृत साधना ने पॉवर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के जरिए ओशो के पुस्तक प्रेम की सम्मोहक प्रस्तुति दी। इस दौरान तीनों पुस्तकों में वर्णित तीन ध्यान प्रयोग भी कराए गए। अंत में वॉलेंटियर्स को स्मृति-चिन्ह भेंट किए गए। कलेक्टर भरत यादव, जेटीपीसी के सीईओ हेमंत सिंह, सोहन सिंह, विनीत सिंह, अनादि अनंत, बोधि बालेंद्र, प्रेम शक्ति, प्रेम अमित, प्रेम विनोद सहित अन्य मौजूद रहे।
आज ओशो ट्रेल : सुबह 8.30 बजे मौलश्री स्थल से होगा शुभारंभ :
जबलपुर टूरिज्म व प्रमोशन काउंसिल व जिला प्रशासन के सहयोग से विवेकानंद विज्डम इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल, भेड़ाघाट के तत्वावधान में शनिवार 14 दिसम्बर को ओशो ट्रेल का आयोजन किया जाएगा। इसका शुभारंभ सुबह 8.30 बजे मौलश्री भंवरताल से होगा। इस दौरान ओशो की बहिन मां निशा व बहनोई हरक भाई मौजूद रहेंगे। देश-दुनिया से आए ओशो प्रेमियों को ओशो ट्री, ओशो चेयर, ओशो हॉल, ओशो रॉक व ओशो मार्बल रॉक का रोचक तरीके से दर्शन कराया जाएगा। स्वामी ध्यान मैत्रेय-डॉ.प्रशांत कौरव ने बताया कि पूर्व में तीन ओशो ट्रेल स्मार्ट सिटी, जबलपुर नगर निगम के सहयोग से सम्पन्न् हो चुकी हैं। यह चौथी ओशो ट्रेल है, जो सबसे व्यापक होगी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x