एटीएम कार्ड का क्लोन बनाकर उड़ा लेते थे पैसे अन्तर्राज्जीय गिरोह के 3 सदस्य गिरफ्तार

जबलपुर ,एटीएम कार्ड का क्लोन तैयार कर लोगों के खाते से पैसे उड़ाने वाले अन्तर्राजीय गिरोह का जबलपुर पुलिस ने भंडाफोड़ करते हुए 3 सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है पूरे मामले से पर्दा उठाते हुए एसपी निमिश अग्रवाल ने कंट्रोल रूम में आज प्रेस वार्ता आयोजित कर बताया की दिनांक 02.12.18, एवं 03.12.18 तथा 13.01.19 को जबलपुर शहर के विभिन्न क्षेत्रों के ए0टी0एम0 से अलग-अलग आवेदकों के बैंक खाते से किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा ए0टी0एम0 कार्ड क्लोन कर खाते से पैसे निकालना/ट्रांसफर किये जाने की षिकायतें प्राप्त होने पर थाना ओमती, थाना गढा एवं थाना अधारताल मंे अपराध पंजीबद्ध विवेचना में लिया गया। घटित हुई घटना को गम्भीरता से लेते हुये आरोपियो की पतासाजी एवं उनकी अविलम्ब गिरफ्तारी हेतु आदेशित किये जाने पर अति. पुलिस अधीक्षक शहर राजेश कुमार त्रिपाठी, अति. पुलिस अधीक्षक दक्षिण डाॅ संजीव उइके, अति0 पुलिस अधीक्षक (अपराध) शिवेश सिह बधेल द्वारा प्रभारी नगर पुलिस अधीक्षक ओमती अखिल वर्मा के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी ओमती, थाना प्रभारी गढा, थाना प्रभारी अधारताल के नेतृत्व में सायबर सेल, एवं क्राईम ब्रांच की संयुक्त टीम गठित कर अपराध पतासाजी हेतु लगाया गया।

ऐसे देते थे वारदात को अंजाम :

पुलिस ने विवेचना के दौरान आये साक्ष्यों के आधार पर पतासाजी करते हुये उत्तरप्रदेष निवासी आरोपी 1-बजरंग बहादुर उर्फ सावन सिंह, 2-संदीप सिंह, 3-कुलदीप सिंह को गिरफ्तार किया जाकर, आरोपियो के कब्जे से घटना में प्रयुक्त 1 टाटा सफारी, एक लेपटाॅप, ए0टी0एम0 स्वाईप मषीन, 07 क्लोन्ड ए0टी0एम0 एवं 02 मोबाईल को जप्त किया गया है। पकडे गये आरोपियो का पुलिस रिमाण्ड लिया जा रहा है, पूछताछ पर और भी वारदातों का खुलासा होने एवं साथी दारानों के पकडे जाने की सम्भावना है।

तरीका वारदातः- फरियादी जब एटीएम में जाता है तो आरोपी भी एटीएम मे मौजूद होकर अपने मोबाईल से मौजूद स्पाई कैमरा ( जिसमें कैमरा चालू रहता है पर मोबाईल की स्क्रीन पर रिकार्डिंग नहीं दिखाई देती है जिसमें फरियादी को यह नहीं पता चलता है कि कोई रिकार्डिंग हो रही है ) का फायदा उठाकर आरोपियों द्वारा फरियादी के एटीएम कार्ड नंबर व एटीएम पिन नम्बर को कैमरे में रिकार्ड कर लेते थे। उसके पष्चात इस रिकार्ड वीडियो को धीमी गति मंे देखकर लैपटाप में मौजूद क्लोनिंग साफ्टवेयर व स्कैमर की मदद से रिकार्ड किए हुए एटीएम कार्ड नंबर का क्लोन तैयार कर लेते थे जिसके पष्चात आरोपी द्वारा इस क्लोन कार्ड का देष के किसी भी कोने में जाकर किसी भी एटीएम से 11-45 बजे से 12 बजे तक एवं 12 बजे रात के बाद पैसे निकालने का काम करते थे जिससे फरियादी को मैसेज रात में आने के कारण पता नहीं चलता था, इस प्रकार आरोपियों द्वारा अधिकतम 20-20 हजार रूपये के 02 ट्रांजेक्षन कर लिए जाते थे।

उल्लेखनीय भूमिका:- घटना में आरोपियो को गिरफ्तार एवं पूछताछ करने मे थाना प्रभारी ओमती नीरज वर्मा, उप निरीक्षक राकेष बघेल थाना ओमती तथा सायबर सेल से उनि नीरज नेगी, आरक्षक नितिन जोषी, उपेन्द्र गौतम, राजेष शर्मा, जयंत इनवाती, आदित्य कुमार, वंदित राजपूत, दुर्गेष दुबे, मनोज भालाधरे, राजा मिश्रा, चंद्रिका पड़वार एवं क्राईम ब्रांच से प्रधान आरक्षक धनंजय सिंह, विजय षुक्ला, आरक्षक जितेन्द्र दुबे, बीरबल रजक, मोहित उपाध्याय, दीपक रघुवंषी, रविन्द्र तिवारी एवं गिरीष मेहरा की उल्लेखनीय भूमिका रही। पुलिस अधीक्षक निमिष अग्रवाल (भा.पु.से.) ने टीम को नगद पुरूस्कार से पुरूस्कृत करने की घोषणा की है ।

शेयर करें: