अमित शाह के गृहमंत्री बनने के बाद सेना के जवानों पर सबसे बड़ा हमला

अनंतनाग.2019 लोकसभा चुनाव के बाद नए मंत्रिमंडल का गठन हुआ जिसमें अमित शाह देश के गृहमंत्री बने पुलवामा अटैक के बाद यह सेना पर दूसरा सबसे बड़ा हमला है जिसमें 5 जवान शहीद हो गए आपको बता दें की अमित शाह के गृहमंत्री बनने के बाद सेना के ऊपर यह पहला बड़ा हमला है जिसके बाद एक बार फिर पूरे देश की निगाहें मोदी सरकार पर टिक गई है की अब फिर से सर्जिकल 2 की जरूरत आन पड़ी है पलपलइंडिया की खबर के अनुसार जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में एक बड़ा आतंकी हमला होने की खबर है. जानकारी के अनुसार अनंतनाग में बस स्टैंड के पास आतंकियों ने सीआरपीएफ और पुलिस बल के जवानों पर हमला कर दिया. इस हमले में 5 जवान शहीद हो गए, जबकि तीन जवानों के घायल होने की भी खबर है. एनकाउंटर में जवानों ने दोनों आतंकियों को मार गिराया है.

बताया जा रहा है कि अनंतनाग में बाइक सवार 2 नकाबपोश आतंकी आए और सीआरपीएफ और पुलिस बल के जवानों पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी. इसके बाद जवाबी कार्रवाई में सुरक्षा बलों ने आतंकवादियों पर भी फायरिंग की. इसमें सीआरपीएफ के दो जवान तथा राज्य पुलिस बल का एक SHO के घायल होने की खबर है. एसएचओ सदर अनंतनाग इंस्पेक्टर इरशाद के सीने में गोली लगी है. डॉक्टरों ने उन्हें श्रीनगर अस्पताल रिफर कर दिया है. जानकारी के अनुसार इस आतंकी हमले में महिला भी घायल है. सुरक्षाबलों ने दोनो नकाबपोश आतंकवादियों को मार गिराया है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक अल उमर मुजाहिदीन नाम के आंतकी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है. इस आतंकी संगठन ने कहा है कि मुश्ताक जरगर उसका सरगना है. बताया जा रहा है कि बालाकोट एयर स्ट्राइक के दौरान वह भी निशाने पर था. आपको बता दें कि मुश्ताक जरगर वही शख्स है जिसे 1999 में विमान आईसी-814 के अपहृत यात्रियों को छोड़ने के बदले भारत सरकार ने रिहा किया था. उसके साथ मसूद अजहर और शेख उमर को भी छोड़ा गया था.

गौर हो कि अनंतनाग में यह आतंकी हमला अमरनाथ यात्रा को लेकर चल रही तैयारियों के बीच हुआ है. अमरनाथ यात्रा 1 जुलाई से शुरू होकर 15 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा के दिन संपन्न होगी. इससे पहले जम्मू-कश्मीर के पुंछ में पाकिस्तान ने सोमवार को सीजफायर का उल्लंघन किया, जिसमें एक जवान शहीद हो गया. रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान ने 6 जून तक 1170 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया

शेयर करें: